सरसों के तेल के दुष्प्रभाव: सरसों के तेल से हो सकता है गंभीर नुकसान! जानकर हैरान रह जाओगे

सरसों के तेल के दुष्प्रभाव: भारतीय अक्सर खाने में सरसों के तेल के इस्तेमाल पर जोर देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारतीय जलवायु के अनुसार अरंडी का तेल स्वास्थ्य और सुंदरता के लिए फायदेमंद माना जाता है। आयुर्वेद में भी सरसों के तेल का प्रयोग कई औषधियों और उपचारों में किया जाता है। सरसों के तेल में पाए जाने वाले तत्व फायदेमंद माने जाते हैं लेकिन फायदे के साथ-साथ इसके कई नुकसान भी हैं, जो आपको जरूर जानना चाहिए। आइए जानते हैं इसके नुकसान के बारे में

सरसों के तेल के नुकसान

1. सरसों के तेल में उच्च स्तर का एसिटिक एसिड होता है जो हमारे दिल के लिए हानिकारक माना जाता है। यह हृदय की मांसपेशियों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है।

2. गर्भावस्था में महिलाओं को खाने में सरसों के तेल का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि इस तेल में कुछ ऐसे रासायनिक पदार्थ होते हैं जो बच्चे के स्वास्थ्य के लिए पूरी तरह से हानिकारक हो सकते हैं।

3. सरसों के तेल के नियमित सेवन से कई लोगों में राइनाइटिस हो सकता है। राइनाइटिस से कफ होता है, जिससे खांसने, छींकने, नाक बहने जैसी समस्या हो सकती है।

4. सरसों के तेल की मालिश करने से त्वचा में एलर्जी हो सकती है। साथ ही लंबे समय तक मसाज करने से भी त्वचा काली हो सकती है। इससे कई लोगों के शरीर में रैशेज भी हो सकते हैं।

5. कई शोधों में यह साबित हो चुका है कि सरसों के तेल में यूरिक एसिड (42 प्रतिशत से 47 प्रतिशत) की अधिक मात्रा पाई जाती है। जिसके कारण अगर इसका अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो यह हृदय रोग, कैंसर, कोमा आदि का कारण बन सकता है और यहां तक ​​कि सबसे गंभीर मामलों में मृत्यु भी हो सकती है।

Check Also

526142-1349073-belly-fat-pista1

वजन घटाने के उपाय: इस सूखे मेवे को खाने से मोम की तरह पेट की चर्बी पिघलती है और याददाश्त में सुधार

वजन घटाने के लिए पिस्ता: हम सभी जानते हैं कि सूखे मेवे और नट्स खाने …