Yoga Tips: आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए करें ये योगासन, नहीं पड़ेगी चश्मा लगाने की जरूरत

जबकि योग समग्र कल्याण के लिए फायदेमंद हो सकता है, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह सीधे दृष्टि में सुधार नहीं कर सकता है या चश्मे की आवश्यकता को समाप्त नहीं कर सकता है। हालांकि, कुछ योगाभ्यास आंखों के तनाव को कम करने, परिसंचरण में सुधार करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं, जो अप्रत्यक्ष रूप से आंखों के स्वास्थ्य का समर्थन कर सकते हैं। यहां कुछ योगासन और मुद्राएं दी गई हैं जो स्वस्थ आंखों को बनाए रखने के लिए फायदेमंद हो सकती हैं:

  1. पामिंग: गर्माहट पैदा करने के लिए अपनी हथेलियों को जोर से आपस में रगड़ें, फिर धीरे से उन्हें अपनी बंद आंखों पर रखें। यह तकनीक आंखों की मांसपेशियों को आराम देने और आंखों के तनाव को दूर करने में मदद कर सकती है। गहरी सांसें लें और अपनी आंखों को कुछ मिनट के लिए अंधेरे में रहने दें।
  2. आंखों का व्यायाम: आंखों का नियमित व्यायाम परिसंचरण में सुधार करने और आंखों की थकान दूर करने में मदद कर सकता है। उदाहरण के लिए, आप अपनी आँखों को गोलाकार गतियों में, ऊपर और नीचे, और अगल-बगल घुमाने की कोशिश कर सकते हैं। दूर की वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करें और फिर अपना ध्यान पास की किसी चीज पर केंद्रित करें। ये अभ्यास आंखों के लचीलेपन और समन्वय को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।
  3. त्राटक (मोमबत्ती देखना): एक शांत जगह में आराम से बैठ जाएं और एक मोमबत्ती को आंखों के स्तर पर रखें। जब तक आप आराम से संभाल सकते हैं, तब तक बिना पलक झपकाए लौ को देखें। यह अभ्यास एकाग्रता में सुधार और आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद कर सकता है। हालाँकि, सावधान रहें कि अपनी आँखों पर ज़ोर न डालें या सीधे सूर्य की ओर न देखें।
  4. योग फॉर स्ट्रेस रिडक्शन: तनाव और तनाव आंखों के तनाव में योगदान कर सकते हैं। गहरी सांस लेने, ध्यान और कोमल योग मुद्रा जैसी तनाव कम करने वाली प्रथाओं को शामिल करने से विश्राम और समग्र कल्याण को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है। कम तनाव का स्तर अप्रत्यक्ष रूप से आपके नेत्र स्वास्थ्य को लाभ पहुंचा सकता है।
  5. सपोर्टेड फ़ॉरवर्ड फ़ोल्ड (उत्तानासन): अपने पैरों को कूल्हे-चौड़ाई से अलग रखें और धीरे से आगे की ओर झुकें, जिससे आपका ऊपरी शरीर लटक सके। अपने हाथों को किसी ब्लॉक या फर्श पर टिकाएं और अपने सिर और गर्दन को आराम दें। यह मुद्रा सिर में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है।
  6. बाल मुद्रा (बालासन): फर्श पर घुटने टेकें, अपने बड़े पैर की उंगलियों को एक साथ लाएं और अपनी एड़ी पर वापस बैठें। अपने धड़ को आगे की ओर मोड़ें और अपनी भुजाओं को अपने सामने फैलाएं, अपने माथे को फर्श या कुशन पर टिकाएं। यह मुद्रा तनाव दूर करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है।

याद रखें, आपकी दृष्टि से संबंधित किसी भी चिंता के लिए नेत्र देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है। जबकि योग समग्र नेत्र स्वास्थ्य का समर्थन कर सकता है, यह जरूरत पड़ने पर पेशेवर आंखों की देखभाल और नुस्खे वाले आईवियर का विकल्प नहीं है।

Check Also

हेल्दी बनाना कपकेक रेसिपी कैसे तैयार करें

मानसून के दौरान एक कप चाय या कॉफी के साथ नरम और फूले हुए गर्म …