यशस्वी जयसवाल ने रचा इतिहास, ये उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे भारतीय बने

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे टेस्ट मैच में भारत के सलामी बल्लेबाज यशस्वी जयसवाल ने ऐतिहासिक पारी खेली है. जयसवाल ने इस मैच में 290 गेंदों में 209 रनों की पारी खेली है. जयसवाल पहले दिन से ही इंग्लैंड के सभी गेंदबाजों को जवाब देते रहे और आखिरकार उन्होंने अपना दोहरा शतक पूरा किया। इस पारी के साथ ही जयसवाल ने रिकॉर्ड्स की झड़ी लगा दी है. विशाखापत्तनम टेस्ट में दोहरा शतक लगाकर वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे बल्लेबाज बने।

रोहित और विराट के क्लब में शामिल

आपको बता दें कि आज से पहले सिर्फ 3 भारतीय बल्लेबाजों ने WTC में दोहरा शतक लगाया है. आज से पहले भारत के दिग्गज खिलाड़ी रोहित शर्मा, विराट कोहली और स्टार खिलाड़ी मयंक अग्रवाल ही वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में दोहरा शतक लगा सके थे. अब यशस्वी ने भी इस लिस्ट में अपना नाम दर्ज करा लिया है. इंग्लैंड के खिलाफ दोहरा शतक जड़कर जयसवाल ने साफ कर दिया है कि वह भारतीय टीम का भविष्य ही नहीं, बल्कि भारतीय टीम का वर्तमान भी हैं.

 

चौका लगाकर यह उपलब्धि हासिल की

गौरतलब है कि यशस्वी जयसवाल अपने दोहरे शतक के करीब पहुंचने के बाद भी घबराए नहीं थे। आम तौर पर देखा जाता है कि अगर कोई बल्लेबाज अपने लक्ष्य तक पहुंच जाता है तो वह धीरे-धीरे खेलना शुरू कर देता है या सिंगल या डबल लेकर लक्ष्य पूरा कर लेता है। वहीं यशस्वी की सोच बाकी बल्लेबाजों से बिल्कुल अलग है. जयसवाल ने चौका लगाकर अपना अर्धशतक पूरा किया, इसके बाद उन्होंने छक्का लगाकर अपना शतक पूरा किया. इसके बाद बल्लेबाज ने चौके के साथ अपने 150 रन पूरे किए और फिर लगातार छक्के और चौके के साथ अपना दोहरा शतक पूरा किया। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह कितने निडर होकर खेल रहे थे.