योगी सरकार के बजट से वाराणसी सहित पूरे प्रदेश में विकास का पहिया तेज गति से दौड़ेगा

वाराणसी,05 फरवरी (हि.स.)। योगी सरकार ने सोमवार को अपने दूसरे कार्यकाल का तीसरा आम बजट विधानसभा के पटल पर पेश कर दिया। प्रदेश के इतिहास में पहली बार सबसे बड़े बजट में विकास के लिए 7,36,437.71 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। बजट में वाराणसी सहित पूरे पूर्वांचल के विकास के लिए योगी सरकार ने खजाना खोल दिया है। योगी सरकार के बजट को लेकर वाराणसी में महिलाओं में खासा उत्साह है। शिक्षाविद वाणी भारद्वाज, व्यवसायी नूतन रंजन,स्वदेशी जागरण मंच काशी महानगर की संयोजिका कविता मालवीय,गृहिणी मधु तिवारी ने बजट को ऐतिहासिक बताया। कविता मालवीय ने कहा कि बजट में महिलाओं का खास ख्याल रखा गया है।

 

यह बजट प्रदेश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने और अर्थव्यवस्था को वन ट्रिलियन की बनाने में बहुत बड़ा कदम है। इससे वाराणसी और पूर्वांचल में जहां विकास का पहिया तेज गति से दौड़ेगा। वहीं, प्रदेश में भी विकास की नई इबारत लिखी जायेगी। कविता मालवीय ने कहा कि बजट में माॅडल सोलर सिटी के रूप में वाराणसी और अयोध्या को शामिल किया गया है। इससे सौर ऊर्जा नीति-2022 को भी बढ़ावा मिलेगा। शिक्षाविद वाणी भारद्वाज ने कहा कि योगी सरकार ने बजट में किसानों,महिलाओं,युवाओं और व्यापारियों का पूरा ध्यान दिया है। साथ ही बजट में प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं,सड़क,शिक्षा के ढांचागत विकास पर काफी ध्यान दिया है। व्यवसायी नूतन रंजन ने कहा कि योगी सरकार ने राजकोषीय संतुलन बनाए रखने के लिए पूरी ईमानदारी दिखाई है। कोई नया कर नहीं लगाया गया है। बजट में पर्यटन को बढ़ावा देने की खास कोशिश की गई है। गृहिणी मधु तिवारी ने कहा कि इस बजट से महंगाई नही बढ़ेगी। प्रदेश सरकार ने समाज के सभी वर्गों का ध्यान रखा है। संकटमोचन साकेतनगर निवासिनी सेवानिवृत अध्यापिका पूजा पांडेय ने बजट की सराहना करते हुए कहा कि योगी सरकार ने विकास का संकल्प दिखाया है। यह बजट भारत के चार स्तम्भ युवा,गरीब,महिला और किसान सभी को सशक्त करेगा। बजट ऐतिहासिक और विकासोन्मुख है। बजट में निराश्रित महिलाओं को ध्यान में रखते हुए सरकार ने उनकी पेंशन 500 की बजाय 1000 रुपये प्रति महीने कर दिया है।