जब पहली बार क्रिकेट मैदान पर भिड़े IND vs PAK, सियासी दिग्गज भी रहे मौजूद, उमड़ा फैंस का सैलाब

नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान की टीमें जब भी एक दूसरे के खिलाफ मैदान में उतरती हैं तो सब कुछ दांव पर लग जाता है। क्रिकेट के मैदान पर इस जंग में जुनून की सारी हदें पार हो गई हैं. इस महामुकाबले में टीम का हर खिलाड़ी अपना सबकुछ झोंकने को तैयार है. इस हाईवोल्टेज मैच पर क्रिकेट फैंस के साथ-साथ दोनों देशों के नेताओं, मशहूर हस्तियों और सभी देशवासियों की नजरें टिकी हुई हैं.

भारत और पाकिस्तान के बीच पहला मैच 1952-53 में हुआ था. इस महामुकाबले को लेकर आज जो माहौल बन रहा है वो भी करीब 71 साल पहले बना था. दोनों देशों के बीच खेले गए पहले टेस्ट सीरीज को देखने के लिए फैंस बड़ी संख्या में जुटे थे. इस मुकाबले में राजनीति के बड़े-बड़े दिग्गज अपनी मौजूदगी दर्ज कराने पहुंचे.

INDs PAK की पहली सीरीज का माहौल

भारत और पाकिस्तान (IND vs PAK) के बीच पहले टेस्ट सीरीज का माहौल अलग था. हर कोई इस ऐतिहासिक पल और सीरीज का गवाह बनने को बेताब था. अखबारों से लेकर पत्रिकाओं तक में पहले पन्ने पर सिर्फ इसी मुलाकात का जिक्र था. दुनिया में खुद को स्थापित करने की कोशिश कर रहे दोनों देश इस सीरीज से क्रिकेट के खेल में अपनी अलग पहचान बनाना चाहते थे.

राजनीतिक माहौल भी गर्म था

भारत और पाकिस्तान के बीच खेली गई पहली सीरीज ने राजनीति के गलियारों में हलचल मचा दी थी. पांच मैचों की इस सीरीज को देखने के लिए दोनों देशों के दिग्गज नेताओं की फौज मैदान पर पहुंची थी. इस मैच के माहौल का जायजा लेने के लिए भारत से जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्तान से लियाकत अली खान कई बार स्टेडियम पहुंचे थे. कुछ साल पहले, एक ही देश में रहने वाले खिलाड़ी आज 22-यार्ड पिच पर टर्फ युद्ध लड़ने के लिए एक-दूसरे के खिलाफ आए थे।

वहां प्रशंसकों की भीड़ उमड़ पड़ी

दोनों देशों के बीच पहली बार खेली गई सीरीज को देखने के लिए लाखों प्रशंसक मैदान पर उमड़ पड़े। किसी के हाथ में देश का तिरंगा था तो किसी के चेहरे पर देश का नाम लिखा हुआ था. बल्ले से निकले हर शॉट और हर विकेट पर खिलाड़ियों का भरपूर हौसला बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई.

श्रृंखला का नाम किसके नाम पर रखा गया था?

भारतीय टीम पांच मैचों की सीरीज 2-1 से जीतने में सफल रही. 2 टेस्ट मैचों में टीम इंडिया मैदान पर उतरी, जबकि एक मैच में पड़ोसी देश को जीत मिली. इसके साथ ही सीरीज के दो मैच ड्रा रहे. दोनों देशों के बीच खेले गए पहले टेस्ट में जीत भारतीय टीम के हाथ लगी थी, जबकि दूसरे मैच में वापसी करते हुए पाकिस्तान ने भारत को हार का स्वाद चखाया था. टीम इंडिया ने तीसरा टेस्ट जीता, जबकि चौथा और पांचवां टेस्ट ड्रॉ रहा.