ब्रिक्स क्या है? इसकी स्थापना कब हुई थी और इसका वास्तविक उद्देश्य क्या है?

रूस और यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच ब्रिक्स वर्चुअल शिखर सम्मेलन की योजना बनाई जा रही है। इस बार चीन 23-24 जून को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। 14वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के एजेंडे में आतंकवाद, व्यापार, खाद्य और ऊर्जा सुरक्षा और वैश्विक अर्थव्यवस्था के खिलाफ लड़ाई में सहयोग के उच्च स्तर पर होने की उम्मीद है। सम्मेलन में ब्रिक्स के विस्तार पर भी चर्चा होने की उम्मीद है। वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी भी शामिल होंगे।चीन ब्रिक्स का विस्तार करने का इच्छुक है और रूस समूह में नए सदस्यों को जोड़ने की चीन की पहल का समर्थन करता है। यूक्रेन-रूस युद्ध, वैश्विक आर्थिक संकट को देखते हुए इस बार ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

ब्रिक्स क्या है?

ब्रिक्स दुनिया की 5 सबसे बड़ी उभरती अर्थव्यवस्थाओं का एक संघ है। संगठन में ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं। ब्रिक्स सदस्य क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने महत्वपूर्ण प्रभाव के लिए जाने जाते हैं। ब्रिक्स को दुनिया की अग्रणी उभरती अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में जाना जाता है। ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता इसके सदस्य देशों द्वारा प्रतिवर्ष की जाती है। पांच देशों में से प्रत्येक हर साल बारी-बारी से इस सम्मेलन की मेजबानी करता है। इस बार वर्चुअल समिट की योजना बनाई जा रही है और चीन इसकी मेजबानी कर रहा है।

ब्रिक्स की स्थापना कब हुई थी?

ब्रिक्स की स्थापना जून 2006 में हुई थी। इसमें पहले चार देश शामिल थे, जिनमें से एक का नाम BRIC था। शुरुआत में इसमें ब्राजील, रूस, भारत और चीन शामिल थे। दक्षिण अफ्रीका भी 2010 में संगठन में शामिल हुआ। जिसके बाद इस संस्था का नाम बदल दिया गया। यह ब्रिक्स से ब्रिक्स में बदल गया। पहला ब्रिक्स शिखर सम्मेलन 2009 में आयोजित किया गया था। इस संगठन के और विस्तार की भी चर्चा है।

ब्रिक्स का उद्देश्य क्या है?

ब्रिक्स संगठन एक बहुपक्षीय मंच है जिसमें दुनिया की 5 सबसे महत्वपूर्ण उभरती अर्थव्यवस्थाएं शामिल हैं। इसमें विश्व की जनसंख्या का 41%, वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 24% और विश्व व्यापार का 16% शामिल है। ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में क्षेत्रीय मुद्दों के साथ-साथ वैश्विक मुद्दों पर भी चर्चा हुई। इसका मुख्य उद्देश्य सदस्य देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में पारस्परिक रूप से लाभकारी सहयोग को बढ़ावा देना है ताकि उनके विकास में तेजी लाई जा सके। जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद, विश्व व्यापार, ऊर्जा, आर्थिक संकट जैसे मुद्दों पर चर्चा हुई है।

Check Also

टिकटॉक ने चीन को मुहैया कराया अमेरिकी नागरिकों का डेटा? यहां जानिए सीईओ ने क्या कहा

नई दिल्ली: टिकटॉक के सीईओ शॉ ज़ी च्यू ने कहा है कि शॉर्ट-वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म …