गुजरात के रहने वाले थे US-कनाडा सीमा पर जान गंवाने वाले 4 लोग! भीषण ठंड में जम कर हुई मौत

नई दिल्ली: कनाडा-यूएस बॉर्डर पर नवजात समेत चार भारतीय लोगों के बर्फ में जिंदा फ्रीज होने का मामला सामने आया है. इन्हें मानव तस्करी करके यहां लाए जाने की आशंका जताई जा रही है. दरअसल इसी मामले को लेकर यानी कनाडा (Canada) में अमेरिकी सीमा के नजदीक बर्फ के नीचे चार शवों की बरामदगी के बाद भारत के गुजरात स्थित एक गांव में मातम पसर गया है.

स्थानीय मीडिया के मुताबिक गांधीनगर (Gandhinagar) की कलोल तहसील के डिंगुचानो गांव का एक पटेल परिवार कनाडा में लापता हो गया था. यह फैमिली 10 दिन पहले कनाडा जाने के लिए निकली थी जिसका बीते 4 दिनों से परिवार के साथ कोई संपर्क नहीं हो पा रहा था.

विदेश मंत्री ने जताया अफसोस

विदेश मंत्री जयशंकर ने ट्वीट कर कहा- ‘कनाडा-अमेरिका सीमा पर एक शिशु समेत 4 भारतीय नागरिकों की मौत की रिपोर्ट से स्तब्ध हूं. अमेरिका और कनाडा में हमारे राजदूतों से स्थिति पर तत्काल रिपोर्ट देने को कहा है.’

सामने आए ये नाम

भारत में मौजूद परिजनों ने भारतीय अधिकारियों से संपर्क किया तो कार्रवाई में तेजी आई. गांधीनगर जिले के कलोल स्थित नवा डिंगुचा गांव के मूल निवासी जगदीशभाई बलदेवभाई पटेल (उम्र 35) उनकी पत्नी वैशालीबेन (उम्र 33), बेटी विहंगा (गोपी) (उम्र 12) और बेटा धर्मिक (उम्र 3) परिवार कनाडा जाने के लिए रवाना हुआ था.

कैसे हुआ खुलासा

न्यूज एजेंसी पीटीआई ने शुक्रवार को बताया कि अमेरिका से लगी कनाडा की सीमा पर ठंड से एक बच्चे सहित चार लोगों की मौत हो गई. ऐसा लगा रहा है कि ये लोग मानव तस्करी के जरिए यहां लाए गए थे. चार लोगों के शव में दो वयस्क, एक किशोर और एक बच्चा- कनाडा में एमर्सन के पास अमेरिका के मिनेसोटा राज्य की सीमा के पास पाए गए हैं.

रॉयटर्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी अधिकारियों ने स्टीव शैंड नाम के एक आरोपी को कनाडा से भारतीय नागरिकों की मानव तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया था. वहीं मिनेसोटा में अमेरिकी अटॉर्नी के कार्यालय ने दो भारतीय नागरिकों को गाड़ी चलाते हुए बुधवार को सीमा के पास से बिना संबंधित कागजात के गिरफ्तार किया था. इसके साथ ही यह भी बताया गया है कि इनके साथ ही पैदल यात्रा कर रहे चार लोगों का एक दल भटक गया था.

डीएम ने नहीं की पुष्टि

परिवार के सदस्य दूतावास से संपर्क कर रहे है. अब सोमवार को हकीकत पता चलने की उम्मीद लगाई जा रही है. इस मामले को लेकर जिला कलेक्टर कुलदीप आर्य से टेलीफोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा, ‘हादसे का शिकार यही परिवार है या नहीं फिलहाल पुष्टि नहीं है. मीडिया के जरिए जानकारी मिली है, ग्रामीण भी मृतकों के उन्हीं के गांव से होने की बात कह रहे हैं. लेकिन पुष्टि होने के बाद ही सूचना सार्वजनिक की जाएगी’

Check Also

यासीन मलिक दोषी करार: अलगाववादी यासीन मलिक को आखिरकार उम्रकैद की सजा

यासीन मलिक केस: कश्मीर के अलगाववादी नेता यासीन मलिक को आतंकियों को आर्थिक मदद देने के …