अजीबोगरीब परंपरा: यहां शादी में दुल्हन के सिर और ब्रेस्ट पर थूककर दिया जाता है आशीर्वाद

अक्सर आदिवासी जनजाति अपनी संस्कृति, रीति-रिवाजों की वजह से खबरों में रहती हैं. हम भी आपको अलग अलग जनजातियों की अजीबोगरीब परंपराओं (Weird Rituals) के बारे में बता रहे हैं और इस क्रम में नंबर है केन्या की एक जनजाति (Kenya Tribes) का. इस जनजाति में शादी के वक्त एक खास परंपरा (Wedding Rituals) निभाई जाती है, जिसके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे. जिस तरह भारत में जब शादी के वक्त लड़कियों की विदाई होती है तो कई परंपराएं निभाई जाती है, वैसी ही परंपरा वहां भी है. मगर ये परंपरा सुनने में काफी अजीब है.

होता क्या है कि जब भी इस जनजाति में लड़कियां घर से विदा होती हैं तो दुल्हन के पिता अपनी बेटी के मुंह पर थूकते हैं. वे अपनी बेटी के मुंह पर थूककर ही उन्हें आशीर्वाद देते हैं. आपको ये सुनने में भले ही अजीब लग रहा हो, लेकिन यह बात सच है कि यह इन लोगों का आशीर्वाद देने का तरीका है. इसके साथ ही ये जनजाति के लोग कई तरह की अन्य रस्में भी निभाते हैं, जो हैरान कर देने वाली है. तो जानते हैं यह खास परंपरा किस जनजाति में होती है और शादी के वक्त क्या क्या किया जाता है.

कहां निभाई जाती है ये परंपरा?

यह परंपरा केन्या और तनजानिया की एक जनजाति के लोग निभाते हैं, जिसका नाम है मासई (Maasai). अपनी संस्कृति और परंपराओं के लिए मासाई लोगों को जाना जाता है, क्योंकि उनके कई रीति-रिवाज काफी अलग होते हैं.

क्या है ये परंपरा?

अगर इस परंपरा की बात करें तो इसमें दुल्हन को खास तरह से विदाई दी जाती है. मीडियम पर छपे एक आर्टिकल के अनुसार महिलाओं की जब शादी होती है तो विदाई के वक्त दुल्हन के पिता अपने बेटे के सिर पर और ब्रेस्ट पर थूकते हैं. भारत में ऐसी परंपरा शायद ही कहीं देखने को मिलती है. वे शादी के दिन अपनी बेटी के साथ इस रस्म को निभाते हैं. मासाई के रीति रिवाजों में अपने प्रियजन को विदाई देने या प्यार जताने का ये ही तरीका होता है और वो अपने परिवारजन पर थूकते हैं. ऐसा नहीं है कि जिस व्यक्ति पर थूकते हैं तो वो इससे परेशान होता है या बुरा मानता है, बल्कि वो भी खुश होता है.

इस जनजाति की शादी में दुल्हन के दहेज को दूल्हे के परिवार को दिया जाता है. इसके बाद दुल्हन का सिर मुंडा जाता है और उस वक्त उस वर्ग के कई बुजुर्ग भी मौजूद होते हैं. इसके बाद दुल्हन अपने पिता के सामने घुटने टेकती है और सभी बुजुर्गों से आशीर्वाद लेती हैं. ऐसे में आशीर्वाद देते हुए घर के बुजुर्ग दुल्हन के सिर और ब्रेस्ट पर थूकते हैं. ऐसा माना जाता है कि थूकने की परंपरा करना दुल्हन के लिए शुभ होता है. ऐसा नहीं है कि ये रिवाज सिर्फ दुल्हन के साथ होता है, बल्कि नए पैदा हुए बच्चे के साथ भी ऐसा किया जाता है.

हालांकि, थूकने का रिवाज कुछ लोगों को थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन मासाई लोगों के लिए यह सम्मान की बात है. यहां थूकना सम्मान की बात मानी जाती है और जब कोई विदेशी भी वहां आता है तो वो इस तरह से ही उनका स्वागत करते हैं और हथेलियों पर थूकते हैं. इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि इस जनजाति में शादी के वक्त जब लड़की विदा होती है तो उसे पीछे मुड़कर ना देखने के लिए कहा जाता है और माना जाता है कि ऐसा दुल्हन कर दे तो वो पत्थर में तब्दील हो सकती है.

Check Also

नींबू-मिर्च को घर के बाहर लटकाना अंधविश्वास नहीं है! इसके पीछे के विज्ञान को जानकर आप दंग रह जाएंगे

नींबू और मिर्च के पीछे का विज्ञान: भारत में कुछ अजीबोगरीब रिवाज माने जाते हैं। कई …