आपको जानकर हैरानी होगी कि पिपला के पत्तों के सेवन से ये बीमारियां नहीं होंगी

पीपला का पेड़ ही एक ऐसा पेड़ है जो 24 घंटे ऑक्सीजन देता है और हमें जिंदा रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है।पीपला के पत्ते सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार पीपला के पेड़ का हर भाग औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसका उपयोग प्राचीन काल से कई बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता रहा है। क्योंकि प्राचीन समय में ऋषि पीपला के पेड़ के नीचे ध्यान किया करते थे। साथ ही, गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति पीपला के पेड़ के नीचे बैठकर हुई थी। पेड़ था

 

पिपला स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही गुणकारी माना जाता है आयुर्वेद में कई औषधियों को बनाने में पिपला के पत्तों का उपयोग किया जाता है इसके अलावा भी कई हृदय रोगों से बचाने में पिपला के पत्ते काफी फायदेमंद साबित हुए हैं आज हम बताने जा रहे हैं आपको इस लेख के माध्यम से पिपला के पत्तों के फायदों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।

आइए जानते हैं पिपला के पत्तों के फायदों के बारे में।

यह दांतों के लिए फायदेमंद होता है।

 

अगर आप अपने दांतों को स्वस्थ और सफेद रखना चाहते हैं तो आपको अपने दांतों को ब्रश करने के लिए बैरल टूथ ब्रश का इस्तेमाल करना चाहिए अगर आप अपने दांतों को बैरल टूथ ब्रश से ब्रश करते हैं तो इससे आपके दांतों का दर्द दूर हो जाएगा। इसके लिए आप 10 ग्राम कसावा की छाल और 2 ग्राम काली मिर्च को पीसकर दांतों के लिए लेप बना सकते हैं।अगर आप इसका इस्तेमाल करते हैं तो आपको दांतों की समस्याओं से राहत मिलेगी।

दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम होगा।

अगर आप दिल से जुड़ी बीमारियों से दूर रहना चाहते हैं तो आप पिपला के 15 ताजे हरे पत्तों को एक गिलास में अच्छी तरह से उबाल कर आधा रह जाने तक उबालें, फिर ठंडा करके छान लें। इस अर्क को दिन में 3 बार पियें। दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम करता है।

सर्दी खांसी दूर।

 

बदलते मौसम में होने वाली सर्दी और खांसी से राहत दिलाने के लिए पिपला के पत्ते बहुत फायदेमंद होते हैं। इसके लिए पिपला के 5 पत्तों को दूध में उबालकर उसमें चीनी मिलाकर सुबह-शाम पीने से आराम मिलता है।

दमा में लाभकारी।

 

अस्थमा की समस्या वाले लोगों के लिए पीपला का पेड़ एक बेहतरीन जड़ी बूटी है।इसके लिए पीपला की छाल के अंदरूनी हिस्से को निकालकर उसे सुखाकर उसका चूर्ण बना लें और इस पाउडर को पानी के साथ पीने से दमा के मरीजों को बहुत फायदा होगा।

रक्तस्राव में कारगर।

जिन लोगों को आंखों से खून आने की समस्या हो उन्हें पिप्पले के कच्चे पत्तों को तोड़कर उसका रस निकालकर कुछ बूंद नाक में डालने से इस समस्या से राहत मिलती है।

Check Also

High Cholesterol: हाई कोलेस्ट्रॉल की ये चेतावनी आपके चेहरे पर दिखती है, इसे बिल्कुल भी इग्नोर न करें

 उच्च कोलेस्ट्रॉल: शरीर में यकृत द्वारा निर्मित वसा को कोलेस्ट्रॉल या लिपिड कहा जाता है। शरीर के …