video : तुर्की में प्रसारित हिंदी धारावाहिक में धुंधली की गई राधा-कृष्ण की मूर्ति, लोगो का फूटा गुस्सा

हिन्दी धारावाहिक ‘साथ निभाना साथिया’ के तुर्की भाषा में ‘मासूम’ नाम से प्रसारित शो ने नया विवाद खड़ा कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ऐसे कई हिन्दी भाषी कार्यक्रम हैं जिनका तुर्की भाषा में अनुवाद किया जाता है। इसके अलावा पिछले कई सालों से वहाँ उनका सफल प्रसारण भी किया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान वह धार्मिक हिन्दू चिन्हों और मूर्तियों को धुँधला करके हिन्दी धारावाहिकों का इस्लामीकरण करने का लगातार प्रयास कर रहे हैं। इस बदलाव के बाद एक बात साफ़ हो जाती है कि तुर्की ब्रॉडकास्टर को भारतीय परम्पराओं और संस्कृति की बिलकुल समझ नहीं है।

 

एक हिन्दी कार्यक्रम के छोटे से हिस्से में राधा और कृष्ण नज़र आते हैं। तुर्की भाषा में प्रसारित होने वाले इस कार्यक्रम के दौरान राधा और कृष्ण वाले हिस्से को धुँधला कर दिया गया है। इस मामले के प्रकाश में आने के बाद कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने इस बात पर आपत्ति जताई। दृश्य में साफ़ तौर पर देखा जा सकता है कि अभिनेत्री के पीछे मंदिर में राधा और कृष्ण की मूर्ति रखी हुई है, उसे पूरी तरह धुँधला किया गया है। यह ऐसा सम्भावित तौर पर इसलिए किया गया है जिससे इस्लामी कट्टरपंथियों की भावनाएँ आहत न हों। एक और वजह यह भी हो सकती है इसे इस्लाम के मुताबिक़ हराम माना जाता है।

तुर्की ब्रॉडकास्टर लगातार हिन्दी धारावाहिकों का इस्लामीकरण करने पर तुले हुए हैं। अब उन्होंने हिन्दू प्रतीक चिन्हों को धुँधला करके हिन्दी धारावाहिक के इस्लामीकरण का प्रयास किया है। इन हिन्दी धारावाहिकों को इस्लाम के अनुरूप दिखाने के लिए कार्यक्रम के दौरान जितने भी गैर इस्लामी प्रतीक चिन्ह दिखाए जाते हैं उन्हें धुँधला कर दिया जाता है। इसके पीछे दलील यह दी जाती है कि उन्हें दिखाने का मतलब इस्लाम के सिद्धांतों का उल्लंघन करना।

यह दृश्य (scene) हिन्दी धारावाहिक ‘साथ निभाना साथिया’ का है जिसे तुर्की भाषा में अनुवाद के बाद ‘मासूम’ नाम दिया गया। इस कार्यक्रम का प्रसारण कनाल 7 (kanal 7) नाम के चैनल पर हुआ था। इस तस्वीर में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि कैसे राधा और कृष्ण की मूर्ति वाले हिस्से को धुँधला किया गया है।

दरअसल हकीकत ये है कि इस्लामी कट्टरपंथियों को खुश करने की होड़ में तुर्की ब्रॉडकास्टर हिन्दू भावनाओं का संज्ञान लेना भूल ही गया। इस हरकत के ज़रिए इन्होंने गैर इस्लामी संस्कृति के प्रति प्रबल असहिष्णु भावना का प्रदर्शन किया है।

Check Also

9/11 के हमले के बाद डिप्रेशन में चले गए थे ‘बुर्ज खलीफा’ के सिंगर डीजे खुशी, उबरने के लिए पार्टियां करने लगे और 20 घंटे की ट्रेनिंग में डीजे बन गए

अपकमिंग फिल्म ‘लक्ष्मी बॉम्ब’ का सॉन्ग बुर्ज खलीफा इन दिनों ट्रेंड में हैं। अक्षय कुमार …