गोरखपुर एवं भदोही में पशुचिकित्सा महाविद्यालयों की होगी स्थापना

लखनऊ, 05 फरवरी (हि.स.)। गोरखपुर एवं भदोही जनपद में पशुचिकित्सा महाविद्यालयों की स्थापना के लिए बजट में 100 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है। दुग्ध संघों के सुदृढ़ीकरण एवं पुनर्जीवित करने के लिए 106 करोड़ 95 लाख रूपये का प्रावधान बजट में किया गया है।

वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बजट पेश करते हुए बताया कि नन्द बाबा दुग्ध मिशन योजना हेतु 74 करोड़ 21 लाख रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है जो वर्तमान वर्ष की तुलना में 21 प्रतिशत अधिक है।

उत्तर प्रदेश दुग्ध उत्पाद प्रोत्साहन नीति-2022 के अन्तर्गत प्रदेश में स्थापित होने वाले दुग्ध उद्योग की इकाईयों को प्रोत्साहन स्वीकृत किये जाने के लिए 25 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है। वहीं जनपद मथुरा में 30 हजार लीटर प्रतिदिन क्षमता (विस्तारीकरण 01 लाख लीटर प्रतिदिन) के नवीन डेरी प्लान्ट के निर्माण हेतु 23 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है।

पशुपालन

गो संरक्षण एवं निराश्रित/बेसहारा गोवंश की समस्या के निराकरण हेतु प्रदेश के समस्त जनपदों में 303 वृहद गो-संरक्षण केन्द्र संचालित हैं। प्रदेश में लगभग 7,239 गोवंश आश्रय स्थल संचालित हैं। इन आश्रय स्थलों में शहरी तथा ग्रामीण अंचलों में कुल 14 लाख 38 हजार गोवंशीय पशु संरक्षित किये गये हैं।

पशुरोग नियंत्रण योजना हेतु 195 करोड़ 94 लाख रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है जो वर्तमान वर्ष की तुलना में 68 प्रतिशत अधिक है। जोखिम प्रबंधन एवं पशुधन बीमा योजना हेतु 78 करोड़ 55 लाख रूपये प्रस्तावित हैं जो वर्तमान वर्ष की तुलना में लगभग तीन गुना है।