Uttar Pradesh Election: UP चुनाव के लिए दिल्ली में BJP ने बनाया बड़ा प्लान, CM योगी और डिप्टी सीएम को चुनावी रण में उतार कर रचा सियासी ‘चक्रव्यूह’

भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Election ) के लिए जल्द ही प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर सकती है. वहीं पार्टी चुनाव में राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) और दो उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या (Keshav Prasad Maurya) और दिनेश शर्मा (Dinesh Sharma) को उतारने का मन बना चुकी है. इसके साथ ही पार्टी पश्चिम बंगाल की तर्ज पर कुछ सांसदों को भी चुनावी मैदान में उतारने का प्लान तैयार कर रही है. ताकि विपक्षी दलों पर दबाव बनाया जा सके. हालांकि अभी तक बीजेपी ने सीएम योगी के चुनाव लड़ने के लेकर आधिकारिक घोषणा नहीं की है. लेकिन मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीएम योगी का अयोध्या से चुनाव लड़ना तय है. इसके जरिए बीजेपी अयोध्या से करीब तीन-चार दर्जन सीटों पर प्रभावित कर सकती है.

दरअसल पिछले दो दिनों से बीजेपी की दिल्ली में चुनाव को लेकर बैठक चल रही है और अभी तक प्रत्याशियों के नाम का ऐलान नहीं किया गया है. वहीं आज मकर सक्रांति के दिन या फिर शनिवार को पार्टी अपने प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर सकती है. क्योंकि राज्य में पहले चरण के मतदान के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है. लिहाजा पहले चरण में राज्य की 58 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए प्रत्याशियों के नाम का ऐलान करने को लेकर पार्टी पर दबाव है. वहां राज्य में एसपी और आएलडी ने वेस्ट यूपी में प्रत्याशी उतार दिए हैं.

केशव कौशांबी तो दिनेश शर्मा लखनऊ से हो सकते हैं प्रत्याशी

चर्चा है कि राज्य के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या कौशांबी के सिराथू सीट से चुनाव लड़ सकते हैं. पिछले दिनों ही बीजेपी ने मौर्या के करीबी माने जाने वाले नेता को कौशांबबी का प्रभारी नियुक्त किया था. वहीं केशव के कौशांबी के साथ ही प्रयागराज की एक सीट पर चुनाव लड़ने की चर्चा है. इसके साथ ही राज्य के दूसरे डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के लखनऊ की किसी सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी है.

 

सीएम और डिप्टी सीएम को मैदान में उतार कर एसपी पर दबाव की रणनीति

असल में बीजेपी राज्य में फिर से सत्ता में काबिज हो ना चाहती है. जबकि राज्य में पिछले साढ़े तीन दशक तक कोई भी सियासी दल दोबारा सत्ता में काबिज नहीं हो सका है. लिहाजा बीजेपी इसके लिए मजबूत रणनीति तैयार कर रही है और सीएम योगी आदित्यनाथ और डिप्टी सीएम को चुनाव लड़ाना भी इसी रणनीति का हिस्सा है. पार्टी का मानना है कि इससे एसपी मुखिया अखिलेश यादव पर भी चुनाव लड़ने का दबाव बनेगा.मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एक-दो दिन में पहले दो चरणों के करीब 94 उम्मीदवारों का ऐलान किया जा सकता है.

पीएम मोदी की मौजूदगी में हुई बैठक

वहीं गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में हुई केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई. इस बैठक में केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केशव प्रसाद मौर्य, दिनेश शर्मा, प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह आदि मौजूद थे. वहीं पीएम मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इस बैठक में ऑनलाइन हिस्सा लिया.

Check Also

सपा ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, भाजपा ने पहुंचाया लाभः जेपी नड्डा

इटावा, 29 जनवरी (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार …