बिजली बिल : बिना समझौता करें गीजर, हीटर का करें इस्तेमाल… ‘लाइट बिल’ होगा आधे से भी कम…

मुंबई : बिजली के बढ़ते बिलों से आजकल हर कोई परेशान है. लेकिन अब हम आपको एक ऐसे डिवाइस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे बिजली का बिल आधा हो जाएगा।  इसे लगाने से कई फायदे होंगे। कोई शॉर्ट सर्किट नहीं होगा और किसी भी बिजली के सामान को कोई नुकसान नहीं होगा। बिजली का बिल 200 रुपए से कम होगा यानी बिजली बिल के आधे से भी कम।

गर्मी और मानसून के दौरान बिजली की खपत अधिक होती है। गर्मियों में जहां तेज धूप के कारण एसी और कूलर का उपयोग अधिक होता है, वहीं बारिश के दौरान घरों में नमी के कारण एसी का उपयोग अधिक होता है। (बिजली का बिल)

आज हम आपको एक ऐसे डिवाइस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे बिजली का बिल आधा हो जाएगा। इसे लगाने से कई फायदे होंगे। कोई शॉर्ट सर्किट नहीं होगा और किसी भी बिजली के सामान को कोई नुकसान नहीं होगा।  

 

आइए जानते हैं इस डिवाइस के बारे में…  

इस डिवाइस का नाम है Zealsy Maxx पावर सेवर इलेक्ट्रिसिटी सेवर पावर (पावर सेवर इलेक्ट्रिसिटी सेवर पावर)। Zealsy Maxx पावर सेवर इलेक्ट्रिसिटी सेवर पावर बिजली बचाता है। इससे वोल्टेज कम नहीं होता है। आपका मीटर वैसे ही काम करेगा जैसा उसे करना चाहिए।

इसे आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीकों से खरीद सकते हैं। इसकी कीमत 999 रुपये है लेकिन यह फ्लिपकार्ट पर 205 रुपये में उपलब्ध है। पहली बार इस तरह की छूट से ऑनलाइन उपकरणों पर कम होगा बिजली का बिल (How to reduce Electricity Bill)

 

इसके इस्तेमाल का फायदा यह है कि घर की कोई भी चीज खराब नहीं होगी। यह अतिरिक्त करंट को रोकता है। कंपनी का दावा है कि इंस्टालेशन के बाद हर महीने बिजली बिल में 35 फीसदी की कमी आएगी।

यह डिवाइस वोल्टेज स्टेबलाइजर के रूप में भी काम करता है। यदि वोल्टेज ऊपर या नीचे जाता है, तो डिवाइस इसे स्थिर करता है। यदि आप इसे किसी कार्यालय या कारखाने में स्थापित करने की योजना बना रहे हैं, तो एक बार किसी इंजीनियर से जाँच कर लें।

क्योंकि केवल एक इंजीनियर ही विद्युत भार की जांच कर सकता है। यह उपकरण बिजली के मुख्य तार से जुड़कर काम करता है। तो एक बार इंजीनियर से बात कर लीजिए..

 

Check Also

Reserve Bank of India : आरबीआई आज मौद्रिक नीति की घोषणा करेगा; क्या फिर बढ़ेंगी ब्याज दरें? अगर रेपो रेट बढ़ता…

मुंबई : देश का बजट (बजट 2023) एक फरवरी को पेश किया गया। कर्मचारियों के लिए राहत …