दिसंबर महीने में भारत में बेरोजगारी दर बढ़कर 8.30 फीसदी हो गई है. जो 16 महीने में सबसे ज्यादा है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) ने रविवार को यह आंकड़े जारी किए। इससे पहले पिछले महीने बेरोजगारी दर 8.00 फीसदी थी। आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर में शहरी बेरोजगारी दर बढ़कर 10.09 फीसदी हो गई, जो पिछले महीने 8.96 फीसदी थी। ग्रामीण इलाकों में बेरोजगारी दर 7.55 फीसदी से घटकर 7.44 फीसदी पर आ गई है.

शहरी बेरोजगारी दर 10.09 प्रतिशत रही

एक रिपोर्ट के मुताबिक सीएमआईई के प्रबंध निदेशक महेश व्यास ने कहा कि बेरोजगारी दर में बढ़ोतरी उतनी बुरी नहीं है, जितनी दिख रही है. इसकी वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि पहले श्रम भागीदारी दर में अच्छी बढ़ोतरी हुई है. उनके मुताबिक दिसंबर में यह बढ़कर 40.48 फीसदी हो गया, जो 12 महीने में सबसे ज्यादा है।

ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारी दर 7.44 प्रतिशत रही

सर्वेक्षण से पता चला है कि जुलाई-सितंबर की अवधि में शहरी क्षेत्रों में महिलाओं के बीच बेरोजगारी दर एक साल पहले के 11.6 प्रतिशत से गिरकर 9.4 प्रतिशत हो गई। अप्रैल-जून में यह 9.5 फीसदी थी। हालांकि, इसकी तुलना जुलाई से सितंबर 2021 की अवधि से की जाती है, जब देश में कोरोना से संबंधित प्रतिबंधों के बड़े प्रभाव के कारण दरों में वृद्धि हुई थी। आंकड़ों के मुताबिक, अप्रैल से जून 2022 के बीच शहरी इलाकों में 15 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की बेरोजगारी दर 7.6 फीसदी थी.