यूक्रेन की सरकार यूक्रेन में पावर ग्रिड को बहाल करने के लिए दिन-रात काम कर रही है जो रूसी मिसाइलों से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था। रूस द्वारा बिजली आपूर्ति बाधित करने के बाद यूक्रेन की राजधानी अंधेरे में डूब गई। उल्लेखनीय है कि यूक्रेन का 40 प्रतिशत ऊर्जा ढांचा क्षतिग्रस्त या नष्ट हो चुका है। राजधानी कीव में बिजली बहाल करने की कोशिश कर रहे अधिकारियों का कहना है कि वे शहर के शेष 30 लाख निवासियों को निकालने के लिए ब्लैकआउट की योजना बना रहे हैं। इस संभावना पर पहले विचार नहीं किया गया था। स्थिति पहले से ज्यादा गंभीर है। नगर निगम के कर्मचारी शहर में 1000 हीटिंग स्टेशन तैयार कर रहे हैं, जो बंकरों का भी काम करेंगे। दूसरी ओर, देश के इंजीनियर उन बिजली स्टेशनों को संचालित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं जो आवश्यक उपकरणों के बिना बमबारी से नष्ट या बंद हो गए हैं। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि अगर ग्रिड विफल हो जाता है तो कीव शहर को 12 घंटे के भीतर खाली करना होगा। यूक्रेन की नेशनल पावर कंपनी ने कहा कि ग्रिड को गिरने से बचाने के लिए सात क्षेत्रों में ब्लैकआउट जारी रहेगा। यूक्रेन के शीर्ष अधिकारियों का मानना ​​है कि अगर और नुकसान हुआ तो वे बुनियादी सुविधाएं नहीं दे पाएंगे.

बिजलीघरों की सुरक्षा के लिए बनाई जा रही हैं दीवारें

पिछले सोमवार को, रूस ने कथित तौर पर बिजली स्टेशनों और ग्रिडों को निशाना बनाते हुए 50 से अधिक क्रूज मिसाइलें दागीं, जिससे हजारों घरों की बिजली गुल हो गई। पिछले एक महीने में 12 बिजली आपूर्ति केंद्रों को भी निशाना बनाया गया है. हालांकि फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है। बिजली स्टेशनों को मिसाइलों से बचाने के लिए दीवारें बनाई जा रही हैं।