Twitter ने सभी यूजर्स के लिए ‘स्पेस’ रिकॉर्डिंग सर्विस शुरू की, जानें क्या है यह फीचर

Twitter Spaces recording feature: सभी एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स अब माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) पर स्पेस रिकॉर्ड (Record Space) कर सकेंगे. ट्विटर ने इसे लेकर अपडेट जारी किया है. कंपनी ने घोषणा की है कि अब सभी ट्विटर यूजर्स एंड्रॉइड और आईओएस पर स्पेस रिकॉर्ड कर सकेंगे. यूजर्स को स्पेस रिकॉर्ड करते समय ‘रिकॉर्ड स्पेस’ बटन को क्लिक करना होगा. ऐसा करने के बाद स्पेस खत्म होने के बाद 30 दिन के लिए रिकॉर्ड किया गया स्थान उपलब्ध होगा.

ट्विटर ने कहा है- यूजर्स के लिए रिकॉर्ड करने का विकल्प अब Android और iOS पर सभी के लिए उपलब्ध है. एक स्पेस शुरू करते समय “रिकॉर्ड स्पेस” स्विच को टैप करें ताकि स्पेस समाप्त होने के बाद इसे 30 दिनों के लिए पब्लिक प्लेबैक के लिए उपलब्ध कराया जा सके.

 

30 दिन के लिए मिलेगा स्पेस
रिकॉर्ड किया गया स्थान 30 दिनों के लिए ट्विटर यूजर्स के लिए उपलब्ध होगा. ट्विटर रिकॉर्डिंग की एक प्रति 120 दिनों तक रखेगा. ऐसा तब भी होगा जब आपने रिकॉर्ड किए गए स्थान को उसकी 30 दिन की समाप्ति से पहले हटा दिया हो. एक बार जब कंपनी यह सत्यापित कर लेती है कि आपका रिकॉर्ड किया गया स्थान उसकी सेवा की शर्तों का उल्लंघन नहीं करता है, तो वह खुद ही उस स्थान को हटा देगा. लाइव स्पेस के मामले में भी ऐसा ही है.

 

क्या है स्पेस
इंटरनेट पर Spaces को कोई भी सुन सकता है. भले ही वे किसी Twitter खाते में लॉगिन हों या नहीं. Spaces सार्वजनिक हैं, इसलिए इनमें कोई भी व्यक्ति एक श्रोता के रूप में शामिल हो सकता है. इनमें वे लोग भी शामिल हो सकते हैं, जो आपको फ़ॉलो नहीं करते. श्रोताओं को सीधे संदेश के माध्यम से स्पेस का लिंक भेजकर, लिंक ट्वीट करके या लिंक शेयर करके स्पेस में सीधे आमंत्रित किया जा सकता है.

 

 

स्पेस में एक समय में अधिकतम 13 लोग बोल सकते हैं. नया स्पेस बनाने के दौरान आपको अपने स्पेस को नाम देने और अपना स्पेस शुरू करने के ऑप्शन दिखाई देंगे.

iOS और Android के लिए Twitter पर कोई भी व्यक्ति स्पेस में शामिल हो सकता है, सुन सकता है और बोल सकता है. फ़िलहाल, वेब पर स्पेस शुरू करना संभव नहीं है, लेकिन स्पेस में कोई भी शामिल हो सकता है और उसे सुन सकता है.

Check Also

content_image_55db6566-887e-4c61-abd0-c5f677a5f205

सेंसेक्स की 559 अंकों की रैली आखिरकार 38 अंक गिरकर 57107 पर आ गई

मुंबई: अमेरिकी डॉलर के मुकाबले वैश्विक मुद्राओं के लगातार हो रहे क्षरण से कई देशों …