जीभ का रंग: अगर आपकी जीभ ऐसी दिखती है तो हो जाएं सावधान! कब सफेद हो जाती है जीभ, जानिए सेहत के बारे में

जीभ के रंग की समस्या: जब आप डॉक्टर के पास जाते हैं तो डॉक्टर आपको मुंह खोलने को कहते हैं। अपनी जीभ दिखाओ। उस समय हम जीभ को बाहर निकालते हैं और डॉक्टर जीभ को बैटरी से देखता है। क्या आपको याद है जब आप बीमार थे तो डॉक्टर ने आपको अपनी जीभ बाहर निकालने के लिए कहा था? उस समय आपने सोचा होगा कि डॉक्टर आपको अपनी जीभ दिखाने के लिए क्यों कह रहे हैं। आपकी जुबान देखकर उन्हें कैसे पता चला कि आपको क्या हुआ है? कई अध्ययनों में पाया गया है कि जीभ के रंग और उसमें होने वाले बदलावों के आधार पर बीमारी की पहचान और निदान किया जा सकता है। इसलिए अगर जीभ का रंग बदलता है तो आपको समय रहते सावधान हो जाना चाहिए।

अगर किसी की जीभ भूरी है तो इसका मतलब है कि वह चाय और कॉफी बहुत ज्यादा पीता है। इसके अलावा जो लोग ज्यादा सिगरेट या बीड़ी पीते हैं। इनकी जीभ भी भूरी हो जाती है। 

जब किसी की जीभ काली हो जाए तो समझ लीजिए कि यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत है। यह कैंसर का भी संकेत हो सकता है और फंगल इंफेक्शन और अल्सर के अलावा जीभ काली पड़ जाती है। जो लोग अत्यधिक धूम्रपान करते हैं, उनकी जीभ को भी ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

जब आपकी जीभ गुलाबी, लाल हो जाती है, तो इसका मतलब है कि आपके शरीर में विटामिन बी12 और फोलिक एसिड की मात्रा बहुत कम है। 

जब किसी की जीभ का रंग नीला या बैंगनी हो जाता है, तो इसका मतलब है कि उसे दिल से संबंधित बीमारी हो सकती है। 

जब किसी की जीभ पीली हो जाती है तो इसका मतलब है कि शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो गई है। लीवर या पेट की समस्या होने पर जीभ पर पीले रंग की परत चढ़ जाती है।  

  

जीभ पर सफेद रंग होने का मतलब है कि आप अपने मुंह की ठीक से सफाई नहीं कर रहे हैं। इससे जीभ पर सफेद धूल की परत जम जाती है और जीभ सफेद नजर आने लगती है।

Check Also

सर्दियों के मौसम में सेलेब्स जैसी ग्लोइंग स्किन पाने के लिए अपनाएं ये खास टिप्स, जानिए क्या

ग्लोइंग स्किन हर किसी की चाहत होती है। हर कोई बेदाग, निखरी त्वचा चाहता है। हर कोई …