IAS बनने के लिए ठुकराई अच्छी खासी नौकरी, 2 बार हुईं फेल; फिर ऐसे बनीं अफसर

नई दिल्ली: संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विस एग्जाम (UPSC Civil Service Exam) को सबसे सठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है और इसको क्लियर करने के लिए छात्रों को कई साल तक तैयारी करनी पड़ती है. कुछ छात्र असफलताओं के बाद तैयारी छोड़ देते हैं, जबकि कुछ छात्र कई बार फेल होने के बाद भी पास होने तक परीक्षा देते रहते हैं. ऐसी ही कहानी उत्तर प्रदेश की रहने वाली गुंजन सिंह (Gunjan Singh) की है, जिन्होंने आईएएस अफसर बनने के लिए अच्छी-खासी नौकरी छोड़कर एग्जाम की तैयारी शुरू की, लेकिन वह 2 बार फेल हो गईं.

शुरू से ही इंजीनियर बनना चाहती थीं गुंजन

गुंजन सिंह (Gunjan Singh) उत्तर प्रदेश के कानपुर की रहने वाली हैं और उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई भी यहीं से की. गुंजन शुरू से ही इंजीनियर बनना चाहती थी, इसलिए उन्होंने 12वीं के बाद कड़ी मेहनत से जेईई परीक्षा पास की और आईआईटी रुड़की में दाखिला लिया.

 

इंजीनियरिंग के दौरान UPSC में आकर्षण

इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान जब गुंजन सिंह (Gunjan Singh) जब इंटर्नशिप कर रही थीं, तब वह आस-पास के गांव में गरीब बच्चों को पढ़ाने जाती थीं. इस दौरान उन बच्चों की खराब कंडीशन देखकर उन्होंने कुछ ऐसा करने का मन बनाया, ताकि उनकी मदद कर सकें. इसके बाद उन्होंने सिविल सर्विस में जाने का फैसला किया.

IAS Officer Gunjan Singh Success Story

यूपीएससी के लिए छोड़ दी लाखों की नौकरी

आईआईटी रुड़की से बीटेक करने के बाद गुंजन सिंह (Gunjan Singh) ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर काम करना शुरू कर दिया, लेकिन उसके बाद वह वह सिविल सर्वेंट बनना चाहती थीं, ताकि वह गांव वालों के लिए कुछ कर पाएं. इसके बाद उन्होंने लाखों के पैकेज वाली अपनी अच्छी खासी नौकरी छोड़ दी और यूपीएससी एग्जाम की तैयारी शुरू की.

 

यूपीएससी एग्जाम में 2 बार हो गईं फेल

गुंजन सिंह (Gunjan Singh) के लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी छोड़कर आईएएस अफसर बनना इतना आसान नहीं था, क्योंकि शुरुआती 2 प्रयासों में असफलता का सामना करना पड़ा. पहले प्रयास में तो गुंजन प्रीलिम्स भी क्लियर नहीं कर पाईं. इसके बाद उन्होंने दूसरा प्रयास दिया, लेकिन वह इंटरव्यू क्रॉस नहीं कर पाईं.

IAS Officer Gunjan Singh Success Story

तीसरे प्रयास में बनीं आईएएस अफसर

लगातार 2 असफलताओं के बाद गुंजन सिंह (Gunjan Singh) थोड़ी निराश हो गईं, लेकिन उनके परिवार ने उन्हें मोटिवेट किया और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया. इसके बाद गुंजन ने कड़ी मेहनत की और तीसरे प्रयास के लिए उन्होंने अपनी पूरी ताकत झोंक दी. गुंजन को तीसरे अटेम्प्ट में सफलता मिली और उन्होंने ऑल इंडिया में 16वीं रैंक हासिल कर आईएएस अफसर (IAS Officer) बनने का सपना पूरा कर लिया.

 

वीकली प्लान बनाकर तैयारी करना फायदेमंद

गुंजन सिंह (Gunjan Singh)  की कहना है कि यूपीएससी एग्जाम की तैयारी के लिए वीकली प्लान बनना चाहिए और हर सप्ताह अपनी तैयारी का एनालिसिस भी करना चाहिए. इससे कमजोरियों के बारे में पता चलता है. यूपीएससी एस्पिरेंट को गुंजन की सलाह है कि बिना प्लानिंग के तैयारी करेंगे तो सही रास्ते से भटक जाएंगे और सिलेबस कंप्लीट नहीं कर पाएंगे.

Check Also

जैन धर्म के प्राचीन धार्मिक स्थल को पर्यटन स्थल में बदलने पर झारखंड सरकार को अल्पसंख्यक आयोग का नोटिस

नई दिल्ली, 24 जनवरी (हि.स.)। झारखंड सरकार के गिरिडीह में जैन धर्म के मशहूर प्राचीन …