Tik Tok स्टार सुसाइड मामला:15 दिन बाद पत्नी के साथ पोहरादेवी मंदिर पहुंचे संजय राठौड़, पुलिस ने भीड़ पर किया लाठीचार्ज

मंत्री का स्वागत करने के लिए कई हजार लोग मंदिर परिसर के बाहर जमा था। भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। - Dainik Bhaskar

मंत्री का स्वागत करने के लिए कई हजार लोग मंदिर परिसर के बाहर जमा था। भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा।

  • टिक टॉकर पूजा की मौत के बाद मंत्री राठौड़ के साथ उनके फोटो वायरल हो रहे थे
  • इससे सोशल मीडिया पर लोग उन पर कई तरह के आरोप लगा रहे थे

पुणे की TikTok स्टार पूजा चव्हाण की मौत के बाद 15 दिन महाराष्ट्र सरकार के वन मंत्री संजय राठौड़ वाशिम के पोहरादेवी मंदिर पहुंचे। वे गाड़ियों के एक लंबे काफिले और अपनी पत्नी के साथ मंदिर पहुंचे थे। हालांकि, उनके आने की जानकारी पहले ही उनके समर्थकों को हो गई थी और कई हजार की संख्या में वे मंदिर के बाहर जमा थे। मंत्री राठौड़ पूजा चव्हाण की मौत के बाद से ही नजर नहीं आए थे। मंत्री की पूजा के साथ की तस्वीरें वायरल हो रहीं थी। इससे उन पर भी सवाल खड़े हो रहे थे।

इस दौरान जमकर कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ी और मंत्री को अपना चेहरा दिखाने के लिए समर्थक एक दूसरे से धक्कामुक्की करते नजर आये। मामला इस कदर बढ़ा कि पुलिस को समर्थकों पर लाठीचार्ज करना पड़ा।

कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लोगों से मास्क पहनने और उचित दूरी बनाने को कहा है, लेकिन पोहरादेवी मंदिर परिसर में दोनों ही नियम टूटते नजर आये। नियमों की अनदेखी पर विपक्ष के नेता प्रवीण दरेकर ने सीएम उद्धव ठाकरे से तुरंत कार्रवाई की मांग की है।

कई समर्थक सुबह से ही मंदिर परिसर में मौजूद थे।

कई समर्थक सुबह से ही मंदिर परिसर में मौजूद थे।

मंत्री के साथ पत्नी भी मंदिर पहुंची थीं
संजय राठौड़ मंदिर परिसर में तकरीबन 45 मिनट तक रहे और इस दौरान समर्थक सोशल डिस्टेंसिंग का नियम तोड़ते हुए जमकर नारेबाजी करते रहे। हालांकि, पूजा के बाद उन्होंने इशारों में लोगों को शांत रहने को कहा लेकिन समर्थ लगातार शोर मचा रहे थे। मंत्री राठौड़ के साथ उनकी पत्नी भी मौजूद थीं। उन्हें भी भीड़ से निकालने के लिए सुरक्षाकर्मियों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

इसलिए चर्चा में हैं मंत्री संजय राठौड़
मूल रूप से बीड जिले के परली की रहने वाली 22 साल की पूजा चव्हाण ने 8 फरवरी को पुणे के वानवड़ी इलाके में एक इमारत से कूद कर आत्महत्या कर ली थी। पूजा की मौत के बाद वन मंत्री राठौड़ के साथ उसकी कई तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल होने लगी और लोग कई तरह के आरोप लगाने लगे। हालांकि, पूजा के परिवार ने इस मामले में किसी भी तरह का संदेह नहीं जताया था। पुलिस ने भी इसे सुसाइड केस मानकर जांच शुरू की है। लेकिन भाजपा के नेता लगातार संजय राठौड़ पर आरोप लगा रहे थे। इस घटना के बाद से राठौड़ सार्वजनिक मंचों से गायब हो गए थे। यहां तक कि कैबिनेट की बैठक में भी वे शामिल नहीं हुए। अब इस तरह से उनकी वापसी एक शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखी जा रही है।

पूजा की मौत के बाद से पिछले 15 दिनों से गायब थे मंत्री संजय राठौड़।

पूजा की मौत के बाद से पिछले 15 दिनों से गायब थे मंत्री संजय राठौड़।

15 दिन बाद राठौड़ ने तोड़ी चुप्पी मंगलवार को मंदिर से बाहर आने के बाद राठौड़ में मीडियाकर्मियों से बात की और पूजा चव्हाण की मौत पर विपक्ष द्वारा गंदी राजनीति करने का आरोप लगाया। मंगलवार को उन्होंने कहा,’एक महिला की मौत के मामले में गंदी राजनीति चल रही है। विरोध जान बूजकर मुझ पर कीचड़ उछाल रहे हैं। मुझे और बंजारा समुदाय को बदनाम करने की कोशिश की गई। इस मामले में जांच जारी है और सच्चाई जल्द सामने आएगी।

राठौड़ ने कहा,’मेरे 30 साल साल के करियर में यह मेरा सबसे खराब समय है। मेरे बारे में जो भी टीवी पर दिखाया गया है, उसमें कुछ भी तथ्यात्मक सच्चाई नहीं है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं। हमें उम्मीद है कि सच्चाई जल्द सामने आएगी।’

 

Check Also

मोगा में दिनदिहाड़े महिला की हत्या:NRI जीजा ने पति के साथ जा रही साली को गोली मारी, 7 साल पहले आरोपी की बेटी ने मृतका के बेटे से इंग्लैंड में की थी लव मैरिज

  घायल महिला को DMC लुधियाना रेफर किया गया, लेकिन वहां इलाज के दौरान उसकी …