400 रुपए किलो बिकता है जैविक विधि से उगाया गया यह टमाटर, पूरे साल उत्पादन ले सकते हैं किसान

क्या आपने कभी 400 रुपए किलो का टमाटर खाया है. क्या ऐसे टमाटर का स्वाद आपने चखा है जो चेरी या अंगूर के जैसा दिखता हो. जैविक खेती (Organic Farming) के द्वारा पैदा किए जा रहे एक ऐसे ही खास किस्म का टमाटर (Tomato) इन दिनों खासा लोकप्रिय हो रहा है. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के जबलपुर में एक पॉलीहाउस में बारह महीने 400 रुपए किलो बिकने वाला टमाटर पैदा किया जाता है, जिसकी विदेशों में भी भारी डिमांड है.

आपको देखकर लगेगा कि यह टमाटर नहीं बल्कि चेरी है, लेकिन ऐसा नहीं है. चेरी जैसे दिखने वाले टमाटर की कीमत भी आम नहीं बल्कि काफी खास है. भारत में खास किस्म का यह टमाटर 400 रुपए से लेकर 600 रुपए किलो तक बिकता है. इस टमाटार के साथ एक और अच्छी चीज यह है कि इसकी खेती करने वाले किसान पूरे साल उत्पादन प्राप्त करते हैं.

पूरे साल ले सकते हैं पैदावार

जबलपुर में अंबिका पटेल नाम के एक किसान ने इस विलुप्त हो रही टमाटर की प्रजाति को सहेजा. वे विगत कई वर्षों से इसकी सप्लाई भी मध्य प्रदेश के कई शहरों में कर रहे हैं. अंबिका पटेल बताते हैं कि जैविक तरीके से टमाटर उगाने के लिए उन्होंने एक गहरी रिसर्च की थी. इस रिसर्च में उन्होंने टमाटर की अलग-अलग किस्म को लिया, जिनमें चेरी जैसा दिखने वाले इस छोटे टमाटर को उन्होंने सबसे उपयोगी पाया.

वे कहते हैं कि इसे हम हाइब्रिड टमाटर या फिर स्वदेशी तकनीक से निर्मित हाई विटामिन युक्त टमाटर भी कह सकते हैं. खास बात यह है कि बरसात के दिनों में पॉलीहाउस में भी इससे उत्पादन लिया जा सकता है और उस वक्त जब सामान्य तौर पर टमाटर की आवक बंद हो जाती है तो इस किस्म के टमाटर का उपयोग बढ़ जाता है.

खास तरह से की जाती है पैकिंग

किसान अंबिका पटेल कहते हैं कि यह दिखने में, स्वाद में और कीमत में ही अनोखा नहीं है बल्कि इस टमाटर की पैकिंग भी बेहद खास किस्म से की जाती है. अंगूर की तरह ही इसे पैक किया जाता है और बेहद सावधानी से इसका रखरखाव करना पड़ता है.

खास बात यह है कि चेरी टमाटर को उगाना या उसकी खेती करना कोई कठिन काम नहीं है बल्कि इसे ट्रे या किसी पिट में भी अंकुरित किया जा सकता है. पर्याप्त नमी के लिए सिंचाई या ड्रॉप स्प्रिंकलिंग की सुविधा के माध्यम से भी इसकी खेती की जा सकती है. अच्छी बात यह है कि छोटे साइज के होने के चलते इनमें खटास एक बड़े टमाटर के मुकाबले ही होती है जबकि विटामिन की मात्रा अधिक होती है.

Check Also

Budget 2022 : SEZ एक्‍ट 2005 में संशोधन संभव, उद्योगों को कर्ज म‍िलने में होगी आसानी

नई द‍िल्‍ली : Budget 2022 : बजट को लेकर व‍ित्‍त मंत्रालय में जोर-शोर से तैयार‍ियां चल …