गले की यह समस्या हो सकती है थायरॉइड कैंसर का लक्षण, ऐसे करें पहचान

throat-problem_11zon-1

थायराइड कैंसर के लक्षण : व्यस्त दिनचर्या, अनुचित आहार और कम रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण लोगों को अक्सर एक बड़ी समस्या का सामना करना पड़ता है। वर्तमान में थायराइड की समस्या पहले से ज्यादा बढ़ गई है। ज्यादातर लोग इस समस्या को सामान्य मानते हैं, लेकिन अगर इसका ठीक से इलाज नहीं किया गया तो यह गंभीर नुकसान पहुंचा सकती है। यह बीमारी कैंसर का रूप भी ले सकती है। अगर आपके गले में गांठ जैसे कुछ लक्षण हैं, तो यह थायराइड कैंसर का लक्षण हो सकता है । इस प्रकार के कैंसर के पीछे एक अनुवांशिक कारण भी हो सकता है। यह रोग छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। बता दें कि यह समस्या महिलाओं में ज्यादा होती है।

डॉक्टर के अनुसार गले में थायरॉइड ग्रंथि एक पंचभुज के आकार की होती है। इसका वजन करीब 20 ग्राम है। थायरॉयड ग्रंथि हार्मोन का उत्पादन करती है जो हृदय गति और शरीर के तापमान को नियंत्रित करती है। जब यह कैंसर होता है, तो थायरॉयड ग्रंथि सूज जाती है और गर्दन में ऊपर उठ जाती है।

थायराइड कैंसर 4 प्रकार के होते हैं

थायराइड कैंसर के 4 मुख्य प्रकार हैं। इनमें कूपिक थायरॉयड कैंसर, पैपिलरी थायरॉयड कैंसर, एनाप्लास्टिक थायरॉयड कैंसर और मेडुलरी थायरॉयड कैंसर शामिल हैं। पैपिलरी थायरॉयड कैंसर सबसे आम है और इलाज की लागत भी अधिक है।

ये हैं थायराइड कैंसर के लक्षण

अधिकांश थायराइड कैंसर गर्दन में छोटी गांठ के रूप में मौजूद होते हैं, जो कठोर और दर्दनाक होते हैं। बोलने और सांस लेने में तकलीफ होना थायरॉइड कैंसर के लक्षण हैं। यह उचित जांच से ही पता चल सकता है। इस समय दुनिया भर में थायराइड कैंसर के मामले बढ़े हैं।

ऐसे होता है थायराइड कैंसर नियंत्रित

अगर आपको भी अपने शरीर में थायराइड कैंसर के ऐसे लक्षण दिखें तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं और इसकी जांच कराएं। इस थायराइड कैंसर की जांच के लिए थायराइड फंक्शन टेस्ट किया जाता है। इनमें टी3, टी4 और टीएसएच शामिल हैं। इसके अलावा गले में अल्ट्रासोनोग्राफी टेस्ट किया जाता है।

Check Also

Heart Attack: देश में क्यों बढ़ी हार्ट अटैक की दर….

मुंबई:  कभी हार्ट अटैक को बूढ़े लोगों की बीमारी माना जाता था। लेकिन कोरोना के …