यही वजह है कि चीन में शी जिनपिंग की चाय पार्टी का निमंत्रण मिलते ही लोग थर-थर कांपने लगते

चीन में इन दिनों राष्ट्रपति शी जिनपिंग के दफ्तर से भेजे गए टी पार्टी के न्योते की खूब चर्चा हो रही है. बल्कि जिनपिंग की टी पार्टी डर और आतंक का दूसरा नाम बन गई है.

आमतौर पर देश के सर्वोच्च नेता के कार्यालय से चाय पार्टी का निमंत्रण मिले तो लोग गर्व महसूस करते हैं, लेकिन चीन में जिन्हें यह निमंत्रण मिलता है, वे कांपने लगते हैं।

इसके पीछे की वजह भी परेशान करने वाली है. चीन में सरकार द्वारा उन लोगों को चाय पार्टी में आमंत्रित किया जाता है जिन पर सरकार को गंभीर अपराधों में शामिल होने का संदेह होता है। टी पार्टी तो बस एक नाम है. निमंत्रण के बाद आने वाले व्यक्ति से कड़ी पूछताछ की जाती है और कभी-कभी यातना भी दी जाती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन सरकार ने 10 अपराधों की एक सूची तैयार की है, जिसमें शामिल व्यक्ति को चाय पार्टी का निमंत्रण भेजा जाता है और वह व्यक्ति चाय पार्टी के बाद घर नहीं लौटता है। वह या तो गायब हो जाता है या जेल में डाल दिया जाता है। यही कारण है कि शी जिनपिंग की चाय पार्टी चीन में चर्चा का विषय बन गई है।

चीनी सरकार की सूची के अनुसार, देश की सुरक्षा को खतरे में डालना, देश के खिलाफ जासूसी करना, जासूसी रोकने में विफलता, देश की सुरक्षा के आदेशों की अवहेलना करना, जासूसी की जांच में बाधा डालना, गुप्त जानकारी लीक करना, उपकरण रखना जासूसी के लिए चीनी सरकार द्वारा बनाई गई सूची में हैं। ऐसा करने वाले शख्स को शी जिनपिंग की चाय पार्टी में आना होगा. पूछताछ के दौरान उसे अपनी बेगुनाही का सबूत भी पेश करना होगा.

माना जा रहा है कि शी जिनपिंग अपने खिलाफ किसी भी विद्रोह की संभावना को खत्म करना चाहते हैं और इसीलिए नए कानून लागू किए जा रहे हैं. इसमें स्कूलों में बच्चों को देशभक्ति का पाठ पढ़ाने का नया नियम भी शामिल है।