गर्भवस्था में बॉडी पर रशेस की समस्या से छुटकारा दिलाएंगे ये घरेलू इलाज

कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के समय रशेस की समस्या परेशान कर सकती है। कई बार इन रैशेज़ वाली जगह पर खुजली भी होने लगती है। खुजली  करने से नाखूनों की वजह से त्वचा के कटने और रगड़ खाने का भी खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में अक्सर गर्भवती महिलाएं चिड़चिड़ापन महसूस करने लगती हैं। नारियल का तेल त्वचा को ठंडक प्रदान करता है और इसीलिए त्वचा पर महसूस होने वाली जलन और खुजली जैसी समस्याओं से भी राहत दिलाता है।

कैसे पाएं रशेस की समस्या से छुटकारा:

इसके अलावा नारियल का तेल एक नैचुरल प्रॉडक्ट होने की वजह से प्रेगनेंसी के दौरान इस्तेमाल करने के लिहाज से बहुत सेफ माना जाता है। आप इस तेल को बेझिझक इस्तेमाल कर सकती हैं।

प्रेगनेंसी रैशेज़ वाले हिस्से की त्वचा को अच्छी तरह साफ करें और उसके बाद ही नारियल का तेल वहां अप्लाई करें। सफाई ना करने से त्वचा में छुपी गंदगी, धूल और पसीना रोमछिद्रों में तेल की परत के नीचे बैठ जाएंगा।

इस जमा हुई गंदगी से आपकी त्वचा पर कुछ और समस्याएं उभर सकती हैं। त्वचा पर नारियल का तेल अप्लाई करने के बाद किसी टिश्यू पेपर या गीले कपड़े से थपथपाकर अतिरिक्त चिपचिपापन साफ कर दें।

अगर किसी हिस्से पर दोबारा नारियल का तेल अप्लाई करना हो तो पहले से लगा तेल साफ कर दें और उसके बाद ही दोबारा कोकोनट ऑयल अप्लाई करें।

Check Also

किसी भी रिश्ते को निभाना है तो याद रखें दो पंक्तियों का मंत्र!

आधुनिक तकनीक यह भ्रम पैदा करती है कि दुनिया करीब है या दूर। एक पल में …