नवंबर में सबसे ज्यादा होती हैं ये बीमारियां, इसलिए खान-पान में बरतें सावधानी

नवंबर का महीना सर्दी की शुरुआत माना जाता है। लेकिन इस माह में सर्दी के रोग होने की संभावना अधिक रहती है। आपको बता दें कि इस महीने में मच्छर भी ज्यादा पनपते हैं, जिससे इनसे होने वाली बीमारियों का खतरा रहता है। आज इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि नवंबर के महीने की शुरुआत में लोग किन बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। साथ ही इन बीमारियों से बचने के लिए किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए। 

न्यूमोनिया

आपको बता दें कि सर्दी के मौसम में होने वाली सबसे आम बीमारियों की गणना में निमोनिया का नाम शामिल है। निमोनिया एक फेफड़ों की बीमारी है जो बैक्टीरिया, कवक और वायरस के विकास के कारण होती है। निमोनिया से बचाव के लिए जितना हो सके हाइड्रेटेड रहना जरूरी है। बुखार हो तो आवश्यक दवा लें। इसके अलावा अपने आहार में अदरक और लहसुन को भी शामिल करें।

गले में संक्रमण

इस मौसम में गले के संक्रमण का भी खतरा रहता है। गले में इन्फेक्शन होने पर दर्द होता है। इस रोग का उच्चारण करने के साथ-साथ खाने में भी मुश्किल होती है। तो आपको सावधान रहना चाहिए। आप शहद के साथ गर्म पानी पिएं। आइसक्रीम या तली हुई चीजों से परहेज करें। गर्म नमक के पानी से गरारे करने से मदद मिल सकती है।

वायरल

नवंबर में अक्सर लोगों को सर्दी-जुकाम की शिकायत रहती है। सर्द हवाओं के कारण लोग वायरल होने लगते हैं। वायरल बुखार, सिरदर्द, शरीर में दर्द और चक्कर आने का कारण बनता है। ऐसे में सावधान रहें, इस महीने की शुरुआत से ही गर्म कपड़े पहनना शुरू कर दें। अपने मुंह और नाक को ठंडी हवा से दूर रखें। साथ ही गुनगुना पानी पिएं।

गठिया

गठिया को गाउट भी कहा जाता है। इस जोड़ रोग की समस्या सर्दी के मौसम में अधिक बढ़ जाती है। इससे घुटने में सूजन हो सकती है। इससे बचने के लिए हेल्दी डाइट लें। साथ ही अपने वजन पर नियंत्रण रखें।

Check Also

200 Kg Weight Loss : लड़की ने घटाया 200 किलो वजन! लड़की का ट्रांसफॉर्मेशन देखकर आप दंग रह जाएंगे

  वजन बढ़ाना कोई बड़ी कला नहीं है लेकिन बढ़ा हुआ वजन कम करना एक …