स्वास्थ्य मंत्रालय के इन 5 नियमों को बांध लेंगे गांठ? आसपास भी नहीं फटकेगा ओमिक्रॉन

Coronavirus Precaution: दुनिया में कोरोना वायरस (Coronavirus) के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron) का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. चिंता की बात ये है कि इस वेरिएंट के कई लक्षण सर्दी में होने वाले फ्लू से मिलते जुलते हैं. इसलिए अधिकतर लोग ओमिक्रॉन और फ्लू के लक्षणों में भेद नहीं कर पा रहे हैं और वायरस के आसानी से शिकार बन रहे हैं.

इसी बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण पर कंट्रोल करने के लिए 5 नियम जारी किए हैं. मंत्रालय का कहना है कि अगर लोग इन 5 नियमों का गंभीरतापूर्वक पालन करें तो कोरोमा वायरस आसपास भी नहीं फटकेगा. इससे कोरोना की चेन तोड़ने में भी मदद मिलेगी. आइए जानते हैं कि मंत्रालय के वे 5 नियम कौन से हैं.

‘क्या करें’ है पहला नियम

मंत्रालय के मुताबिक कोरोना वायरस (Coronavirus) की तीसरी लहर तेजी से फैल रही है. ऐसे में खुद को और परिवार को सुरक्षित रखने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का अनिवार्य रूप से पालन करें. घर से बाहर कम से कम निकलने की कोशिश करें और मास्क पहनने व हाथ धोने में लापरवाही न करें.

‘कब करें’ नियम का पालन

मंत्रालय के मुताबिक कोरोना (Coronavirus) के मामले कम होते ही कुछ लोग लापरवाह हो जाते हैं और मास्क पहनना छोड़ देते हैं. यह लापरवाही खतरनाक है. इस तरह की बेवकूफी लोगों को गहरे संकट में डाल सकती है. इसलिए समझदारी का परिचय देते हुए हर वक्त कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते रहें.

‘कहां करें’ है तीसरा नियम

कई लोग सोचते हैं कि मास्क का इस्तेमाल केवल भीड़भाड़ वाली जगहों पर ही करना चाहिए. लेकिन जब चार दोस्त मिल रहे होते हैं तो वहां पर मास्क या सोशल डिस्टेंसिंग नहीं बरतते, जोकि उचित नहीं है. इसलिए जब तक महामारी खत्म नहीं हो जाती, हर जगह कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करते रहें.

‘कौन करे’ नियम से जोड़ें नाता

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक कोरोना प्रोटोकॉल का पालन केवल बड़ों को ही नहीं बल्कि सभी के लिए बहुत जरूरी है. चाहे बड़े हों या बच्ची, जब भी वे घर से बाहर निकलें तो मास्क जरूर पहनें और दूसरों से 2 मीटर की दूरी का गैप बनाए रखें. अपने हाथों को बार-बार धोने का भी खास ध्यान बनाए रखें.

‘क्यों करें’ नियम का पालन

दुनिया में कोरोना वायरस (Coronavirus) का अभी तक कोई परमानेंट इलाज नहीं मिल पाया है. जो भी वैक्सीन विकसित हुई हैं, वे केवल शरीर की इम्यूनिटी को बूस्ट अप करने में सहायक सिद्ध हुई हैं. उनसे वायरस पर कोई असर नहीं पड़ा है. इसलिए जब तक दुनिया में इस वायरस को खत्म करने का पुख्ता इलाज नहीं आ जाता, तब तक लोगों को सावधानी बरतकर ही जिंदा रहना होगा. इसके लिए इन पांचों नियमों का पालन करना पड़ेगा.

 

2 लाख 64 हजार से ज्यादा नए मामले

बताते चलें कि भारत में कोरोना (Coronavirus) के 2 लाख 64 हजार से ज्यादा नए मामले देखे गए हैं. यह मात्रा पिछले 239 दिनों में सबसे ज्यादा है. इसके साथ ही देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3 करोड़ 65 लाख से ज्यादा हो गई है. देश में कोरोना से अब तक 4 लाख 85 हजार लोगों की मौत हो गई है.

Check Also

26 जनवरी से पहले पुलवामा जैसे हमले का प्लान डिकोड, इनपुट के बाद यूं बना आंतिकयों के सफाए का प्लान

नई दिल्ली: देश की खुफिया एजेंसियों से मिली एक्सक्लूसिव (Exclusive) जानकारी के मुताबिक इस बार 26 …