Rudraksh: रुद्राक्ष पहनने से होते हैं बड़े फायदे, जानें एक मुखी या पंचमुखी में से कौन सा पहनना है श्रेष्ठ

रुद्राक्ष : रुद्राक्ष एलेओकार्पस गैनिट्रस वृक्ष का बीज है। रुद्राक्ष एक विशेष प्रकार का फल है जो विशेषकर हिमालय में पाया जाता है। वर्तमान में इसके पेड़ नेपाल, बर्मा, थाईलैंड और इंडोनेशिया में पाए जाते हैं। लेकिन जब आप हिमालय में सही ऊंचाई पर जाते हैं तो अच्छी गुणवत्ता वाला रुद्राक्ष मिलता है।

रुद्राक्ष के मुख 1 से 21 तक हो सकते हैं। इन सभी का प्रयोग अलग-अलग तरीके से किया जाता है। गलत रुद्राक्ष का चयन व्यक्ति के जीवन में उथल-पुथल मचा सकता है। वहीं सही रुद्राक्ष की माला व्यक्ति के जीवन में सुख, समृद्धि और शांति लाती है।

एकमुखी रुद्राक्ष बहुत शक्तिशाली होता है। इसे पहनना आमतौर पर फायदेमंद या नुकसानदायक दोनों हो सकता है। खासकर इस रुद्राक्ष को धारण करने से पहले किसी अच्छे ज्योतिषी या संबंधित विषय के विशेषज्ञ से सलाह जरूर लेनी चाहिए अन्यथा एक मुखी रुद्राक्ष आपके जीवन में व्यवधान और अशांति का कारण बन सकता है।

पंचमुखी रुद्राक्ष सुरक्षित है और इसे पुरुषों, महिलाओं, बच्चों द्वारा पहना जा सकता है। इसके सेवन से कोई नुकसान नहीं होता है और इसका परिणाम हमेशा अच्छा ही मिलता है। पंचमुखी रुद्राक्ष पहनने से घर में समृद्धि, खुशहाली और विशेषकर स्वास्थ्य सुख आता है। हाई बीपी होने पर भी यह रुद्राक्ष पहनना अच्छा है। यह शरीर में रक्तचाप को कम करता है। आपकी नसों को शांत करता है और तंत्रिका तंत्र में एक प्रकार की शांति और सतर्कता लाता है।

 

14 वर्ष से कम उम्र के बच्चे सम्मुखी यानि 6 नुकीले रुद्राक्ष पहन सकते हैं। यह विशेष रूप से विद्यार्थियों के लिए बहुत अच्छा है। यह मन को शांत करता है और एकाग्रता में मदद करता है। आपका मन एकाग्र हो जाता है.

गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण करना भी लाभकारी होता है। यह रुद्राक्ष विशेष रूप से घर में समृद्धि लाता है। इस रुद्राक्ष को धारण करने से घर में रिद्धि सिद्धि का वास होता है और महालक्ष्मी की कृपा बरसती है।

रुद्राक्ष धारण करने के नियम

अगर कोई महिला गर्भवती है तो उसे रुद्राक्ष पहनने से बचना चाहिए। यदि कोई रुद्राक्ष धारण करता है तो उसे मां और बच्चे से दूर रहना चाहिए। अगर किसी कारणवश आपको जच्चा-बच्चा के पास जाना पड़े तो सबसे पहले रुद्राक्ष उतार लें।

 हिंदू धर्म के अनुसार जो व्यक्ति मांस खाता है और धूम्रपान करता है उसे रुद्राक्ष पहनने से बचना चाहिए। यदि आप मांस खाना बंद नहीं कर सकते तो रुद्राक्ष न पहनें। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति रुद्राक्ष पहनकर मांस खाता है या धूम्रपान करता है वह अशुद्ध हो जाता है।

हिंदू पुराणों में बताया गया है कि सोते समय कभी भी रुद्राक्ष नहीं पहनना चाहिए। रात को सोने से पहले रुद्राक्ष अवश्य हटा दें। रुद्राक्ष को उतारकर अपने तकिए के नीचे रखें। कहा जाता है कि इन उपायों को करने से बुरे सपने आना बंद हो जाते हैं। यह बुरे सपने या नींद की समस्याओं को ख़त्म करने के लिए जाना जाता है।

अगर आप इन तीन बातों का ध्यान रखकर रुद्राक्ष धारण करेंगे तो भोलेनाथ प्रसन्न होंगे और उनकी कृपा आप पर बनी रहेगी। अगर आप इन बातों को नजरअंदाज करेंगे और रुद्राक्ष धारण करेंगे तो परिणाम अच्छा नहीं होगा।किसी अशुद्ध स्थान पर जाते समय भी रुद्राक्ष उतार देना चाहिए। यह रुद्राक्ष का सम्मान और पवित्रता बनाए रखता है