नींबू-मिर्च को घर-कार्यालय के बाहर क्यों लटकाया जाता है? असली कारण जो ज्यादातर लोग नहीं जानते

नींबू और मिर्च के पीछे का विज्ञान: आपने लोगों को अपनी दुकानों, वाहनों और घरों के बाहर नींबू और मिर्च टांगते हुए देखा होगा। कुछ लोग इसे अंधविश्वास भी मानते हैं, कुछ लोग अपने स्वयं के विकास और परेशानियों से बचने के लिए इन प्रथाओं को अपनाते हैं और कुछ लोग इसका इस्तेमाल अपनी दुकान के दरवाजे पर या अपने घर के दरवाजे पर बुरी ताकतों से बचाने के लिए करते हैं। 

भारत में ऐसे कई रिवाज हैं जो हमारे मन में कई सवाल खड़े करते हैं और इसके पीछे क्या लॉजिक है? वह इसका पता लगाने की कोशिश कर रहा है। आज के पढ़े-लिखे लोग घर या दुकान के बाहर नींबू टांगने में अंध विश्वास करते हैं, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इसके पीछे एक विज्ञान छिपा है।

इसके पीछे वैज्ञानिक कारण
यह है कि कुछ लोगों का मानना ​​है कि यह बुरी आत्माओं को घर से दूर रखता है और सदस्यों को परेशान नहीं करता है लेकिन यह सिर्फ बात है। दरअसल, नींबू-मिर्च को टांगने से हवा शुद्ध होती है। जो बीमारियों को दूर रखता है। नींबू के पेड़ पर्यावरण को साफ रखते हैं। लेकिन शहर के हर घर में नींबू का पेड़ होना संभव नहीं है इसलिए ऐसे में लोग नींबू-मिर्च लटकाते हैं। इससे घर में आने वाली हवा शुद्ध होती है और सदस्यों को सकारात्मक ऊर्जा मिलती है।

नींबू-मिर्च को घर के बाहर टांगने के लिए नींबू में एक छेद करना पड़ता है। जो हवा में एक नम गंध फैलाता है। यह खुशबू चीटियों और कीड़ों को भी दूर रखती है और ताजी हवा मिलने से कोई बीमारी नहीं होती है लेकिन इसे हर हफ्ते बदलना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि नींबू की बदबू इसे बदबूदार बनाती है।

कीटाणुनाशक गुण
विज्ञान के अनुसार नींबू और मिर्च में कीटाणुनाशक गुण होते हैं। इसे दरवाजे पर लगाने से घर का वातावरण भी साफ रहता है। हालांकि वास्तु दरवाजे पर नींबू और मिर्च का इस्तेमाल भी वास्तु शास्त्र का समर्थन करता है। तथ्य यह है कि दोनों को एक साथ दरवाजे पर लटकाने से नकारात्मकता नहीं आती है। यह आपको घर के अंदर सकारात्मक महसूस कराता है। वास्तु यह भी कहता है कि घर के आंगन में नींबू का पेड़ लगाना चाहिए।

Check Also

गुरु पूर्णिमा 2022 | गुरु पूर्णिमा त्रिग्रह योग; इन 3 राशियों के लोगों को मिलेगा बड़ा लाभ

गुरु पूर्णिमा 2022 पर त्रिग्रही योग: हिंदू धर्म में गुरुपूर्णिमा का विशेष महत्व है। बृहस्पति को …