हिसार: रक्तदान-महादान को पुण्य मानकर दानवीरों का कारवां बढ़ा रहा पूनिया परिवार

हिसार, 21 नवम्बर (हि.स.)। समाज मे बदलाव लाने के लिए अच्छे कार्य की शुरुआत घर से ही करनी पड़ती है और यदि पूरा परिवार पुण्य के कार्य में सम्मिलित हो तो वो एक कारवां बन जाता है। जिले के गांव किरोड़ी निवासी दंपति डॉ. बलकार सिंह व उनकी धर्मपत्नी अमरजीत कौर द्वारा 13 साल पहले एक मुहिम रक्तदान-महादान की शुरुआत की गयी थी, जिसकी आज हर ओर चर्चा है।

पूनिया दंपति ने आह्वान किया था कि अपने किसी भी शुभ अवसर पर जन्मदिन अपना, परिवार के किसी भी सदस्य का या विवाह, वर्षगांठ या कोई भी नौकरी, तरक्की या कोई भी शुभ अवसर हो उस पर रक्तदान जरूर करें। इसी मुहिम को पूनिया परिवार के सभी सदस्य मिलन फाउंडेशन संस्था के साथ निरंतर जारी रखे हुए हैं। इसी कड़ी मे सोमवार को परिवार के सदस्य प्रदीप कुमार ने अपने बेटे खुशमित के पहले जन्मदिन पर आकर सामान्य हस्पताल में रक्तदान किया। प्रदीप पूनिया ने अपने विवाह के दिन सुबह रक्तदान के बाद ही बारात लेकर सुसराल गया था। यही नहीं डॉ. बलकार सिंह व अमरजीत कौर अपने बच्चों के जन्मदिन पर 21 बार रक्तदान कर चुके हैं और इनका पूरा परिवार महिला हो या पुरुष हर अवसर पर रक्तदान करते हैं। यही कारण है कि पूनिया दंपति की मुहिम से 100 से अधिक लोग विशेष अवसरों पर नियमित रक्तदान करते हैं।

पूनिया दंपति का मानना है कि रक्तदान को महादान व सबसे बड़ा पुण्य माना गया है। इसका कारण यही है कि समय पर रक्त मिलने से किसी की मां, किसी के पिता, किसी की बेटी या बेटे की जान बचती है। खास बात यह है कि रक्त लेने व देने वाले दोनों को ये नहीं पता होता की ये जीवन दान किसके द्वारा किसको दिया गया है। प्रदीप पूनिया ने रक्तदान के बाद बताया कि उनको बहुत खुशी की अनुभूति हो रही है क्योंकि प्रदीप के बड़े भाई दीपक पूनिया भी अपने बेटे के जन्मदिन पर रक्तदान करते हैं। उन्होंने कहा कि मेरे चाचा डॉ. बलकार सिंह पूनियां व चाची अमरजीत कौर द्वारा चलाई गयी पुण्य की अमरबेल हम सभी को मिलकर आगे बढ़ाना है।

Check Also

गुजरात-हिमाचल चुनाव: जानिए- मोदी समेत इन बड़े नेताओं के लिए क्या मायने रखते हैं गुजरात और हिमाचल के नतीजे

नई दिल्ली: गुजरात-हिमाचल चुनाव परिणाम गुजरात और हिमाचल के चुनाव नतीजों में जहां एक तरफ बीजेपी …