फेड की दरों में बढ़ोतरी जारी रहने की संभावना से बाजार में और हलचल मच गई

jrPv4b3ysJxfk7MCdHGn5wh4pUimSJzCmW31OdrU

यूएस फेड द्वारा बुधवार को अपनी दर की समीक्षा 75 आधार अंकों की वृद्धि के बाद अमेरिका सहित शेयर बाजारों में बिकवाली फिर से शुरू हो गई और नवंबर में अपनी बैठक में 75 आधार अंकों की लगातार चौथी वृद्धि की संभावना बढ़ गई। भारतीय बाजार ने भी बंद करने के लिए एक अंतर-उद्घाटन दिखाया, आगे की अस्थिरता के बाद लगभग आधे नुकसान को मिटा दिया। जिसमें बीएसई सेंसेक्स 337 अंक गिरकर 59,120 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 89 अंक गिरकर 17,630 पर बंद हुआ। लार्ज-कैप में बिकवाली के कारण निफ्टी के काउंटर मोटे तौर पर नकारात्मक रहे। निफ्टी के 50 काउंटरों में से 28 ने नकारात्मक बंद होने का संकेत दिया। जबकि 22 काउंटर पॉजिटिव पाए गए। हालांकि, व्यापक बाजार में स्थिति थोड़ी बेहतर थी और बीएसई में चौड़ाई सकारात्मक थी। वोलैटिलिटी इंडेक्स भी 2.7 फीसदी की गिरावट के साथ 18.81 पर बंद हुआ।

फेड की दर वृद्धि के बाद नैस्डैक 2 प्रतिशत से अधिक गिर गया। नतीजतन, एशियाई बाजारों में 2 फीसदी तक की गिरावट देखी गई। हांगकांग के बाजार ने भी सालाना निचला स्तर बनाया। जबकि कोरिया, ताइवान, जापान और चीन के बाजारों में भी नकारात्मक कारोबार दिखा। इस बीच भारतीय बाजार भी गैप डाउन के साथ खुला। निफ्टी 17,532 के पिछले बंद के मुकाबले 17,532 पर खुलने के बाद आधा फीसदी गिरकर 17,532 पर बंद हुआ। नकदी के मुकाबले निफ्टी वायदा सपाट नजर आया। जो इस बात का इशारा करता है कि बाजार से लॉन्ग पोजीशन में खासी कमी आई है। तकनीकी विश्लेषकों के मुताबिक निफ्टी 17,500 के स्तर को बनाए रखने में कामयाब रहा। जब तक यह इस स्तर पर व्यापार कर रहा है तब तक एक सकारात्मक व्यापार बनाए रखा जाना चाहिए।

 

 अगर 17,500 का स्तर टूटता है तो निफ्टी और गिरावट का संकेत दे सकता है। फेड रेट में बढ़ोतरी के बाद, आरबीआई पर घरेलू स्तर पर दरों में बढ़ोतरी का दबाव रहा है। हालाँकि, भारतीय बाजार में मुद्रास्फीति की स्थिति अभी भी नियंत्रण में है और इसलिए RBI द्वारा दर को 50 आधार अंकों से नीचे बढ़ाने की संभावना है। दरों में बढ़ोतरी के कारण डॉलर इंडेक्स 22 साल के नए उच्च स्तर पर पहुंच गया। जिसके पीछे रुपया भी अपने ऐतिहासिक निचले स्तर पर देखा गया। जिससे घरेलू स्तर पर महंगाई पर दबाव बढ़ सकता है।

गुरुवार को बाजार को एफएमसीजी से बड़ा सपोर्ट मिला। इसके अलावा ऑटो, फार्मा और मेटल ने भी सपोर्ट दिया। निफ्टी एफएमसीजी इंडेक्स 1.3 फीसदी बढ़कर 45,228 के उच्च स्तर पर पहुंचकर 45,080 पर बंद हुआ। एफएमसीजी काउंटरों में वरुण बेवरेजेज ने सबसे ज्यादा 4 फीसदी सुधार दर्ज किया। इसके अलावा हिंदुस्तान यूनिलीवर में 3 फीसदी का सुधार हुआ।

 

 मैरिको, डाबर इंडिया, जुबिलेंट फूड, ब्रिटानिया, आईटीसी, पीएंडजी, इमामी में भी उल्लेखनीय सुधार देखा गया। आईटीसी ने पिछले पांच वर्षों में अपना उच्चतम प्रदर्शन किया। निफ्टी मेटल में 0.4 फीसदी का सुधार हुआ। जिसमें एनएमडीसी, वेदांता, जिंदल स्टील, हिंदुस्तान जिंक और सेल में सुधार दिखा। निफ्टी फिरमा 0.3 फीसदी सुधार का संकेत दे रहा था। जिसमें 2.5 फीसदी के साथ टोरेंट फरमा सबसे मजबूत नजर आई। इसके अलावा अल्केम लैब्स, डॉ. रेड्डीज लैब्स, सन फार्मा और ल्यूपिन में भी मजबूती देखी गई। निफ्टी ऑटो तिमाही बढ़त के साथ बंद हुआ। जिसमें भारत की दर 2 फीसदी के साथ सुधार के मामले में सबसे ऊपर थी।

 

 इसके अलावा आयशर मोटर्स में 2 फीसदी, मारुति सुजुकी में 1.7 फीसदी, अशोक लीलैंड में 1.5 फीसदी, टाटा मोटर्स में एक फीसदी की तेजी रही। बजाज ऑटो और टीवीएस मोटर्स ने मध्यम नरमी का संकेत दिया। निफ्टी बैंक ने पिछले शुक्रवार के बाद दूसरी बार बिकवाली का दबाव महसूस किया। बैंक निफ्टी 1.4 फीसदी गिरकर 40,631 पर बंद हुआ। जिसमें प्रमुख निजी बैंकिंग शेयरों में भारी बिकवाली देखने को मिली। शीर्ष लाभार्थियों में एक्सिस बैंक 2.2 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक 2.1 प्रतिशत, बैंक ऑफ बड़ौदा 2 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा 1.3 प्रतिशत, आईसीआईसीआई 1.3 प्रतिशत और इंडसइंड बैंक लगभग 1 प्रतिशत नीचे थे। सिर्फ पीएनबी एक फीसदी मजबूती के साथ बंद होता नजर आया। 

 

अशोक लीलैंड में 1.5 फीसदी, टाटा मोटर्स में एक फीसदी की तेजी आई। बजाज ऑटो और टीवीएस मोटर्स ने मध्यम नरमी का संकेत दिया। निफ्टी बैंक ने पिछले शुक्रवार के बाद दूसरी बार बिकवाली का दबाव महसूस किया। बैंक निफ्टी 1.4 फीसदी गिरकर 40,631 पर बंद हुआ। जिसमें प्रमुख निजी बैंकिंग शेयरों में भारी बिकवाली देखने को मिली। शीर्ष लाभार्थियों में एक्सिस बैंक 2.2 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक 2.1 प्रतिशत, बैंक ऑफ बड़ौदा 2 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा 1.3 प्रतिशत, आईसीआईसीआई 1.3 प्रतिशत और इंडसइंड बैंक लगभग 1 प्रतिशत नीचे थे। सिर्फ पीएनबी एक फीसदी मजबूती के साथ बंद होता नजर आया। अशोक लीलैंड में 1.5 फीसदी, टाटा मोटर्स में एक फीसदी की तेजी आई। बजाज ऑटो और टीवीएस मोटर्स ने मध्यम नरमी का संकेत दिया। निफ्टी बैंक ने पिछले शुक्रवार के बाद दूसरी बार बिकवाली का दबाव महसूस किया। बैंक निफ्टी 1.4 फीसदी गिरकर 40,631 पर बंद हुआ।

 

 जिसमें प्रमुख निजी बैंकिंग शेयरों में भारी बिकवाली देखने को मिली। शीर्ष लाभार्थियों में एक्सिस बैंक 2.2 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक 2.1 प्रतिशत, बैंक ऑफ बड़ौदा 2 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा 1.3 प्रतिशत, आईसीआईसीआई 1.3 प्रतिशत और इंडसइंड बैंक लगभग 1 प्रतिशत नीचे थे। सिर्फ पीएनबी एक फीसदी मजबूती के साथ बंद होता नजर आया। जिसमें प्रमुख निजी बैंकिंग शेयरों में भारी बिकवाली देखने को मिली। शीर्ष लाभार्थियों में एक्सिस बैंक 2.2 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक 2.1 प्रतिशत, बैंक ऑफ बड़ौदा 2 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा 1.3 प्रतिशत, आईसीआईसीआई 1.3 प्रतिशत और इंडसइंड बैंक लगभग 1 प्रतिशत नीचे थे। सिर्फ पीएनबी एक फीसदी मजबूती के साथ बंद होता नजर आया। जिसमें प्रमुख निजी बैंकिंग शेयरों में भारी बिकवाली देखने को मिली। शीर्ष लाभार्थियों में एक्सिस बैंक 2.2 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक 2.1 प्रतिशत, बैंक ऑफ बड़ौदा 2 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा 1.3 प्रतिशत, आईसीआईसीआई 1.3 प्रतिशत और इंडसइंड बैंक लगभग 1 प्रतिशत नीचे थे। सिर्फ पीएनबी एक फीसदी मजबूती के साथ बंद होता नजर आया।

एनएसई डेरिवेटिव्स सेगमेंट में कई काउंटरों पर अच्छी बढ़त देखी गई। जिसमें मेट्रोपोलिस हेल्थ ने 5.5 फीसदी की उछाल के साथ उछाल दिखाया। इसके अलावा टाटा केमिकल्स में 5 फीसदी की तेजी आई। पेज इंडस्ट्रीज, ग्रैन्यूल्स इंडिया, टाइटन कंपनी, सन टीवी नेटवर्क, गुजरात गैस, इंडियन होटल्स, डॉ. लाल पैथलैब्स, पिरामल एंटरप्राइजेज में 2 प्रतिशत से अधिक का सुधार देखा गया। वहीं, इंडिया सीमेंट्स में 4 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई।

 

 इसके अलावा सिटी यूनियन बैंक, पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन, गोदरेज कंज्यूमर, मुथूट फाइनेंस, गोदरेज प्रॉपर्टीज में गिरावट देखी गई। साल-दर-साल या चरम ऊंचाई दिखाने वाले काउंटरों में वरुण बेवरेजेज, पेज इंडस्ट्रीज, वेलस्पन कॉर्प, लक्ष्मी मशीन्स, केआरबीएल, कोचीन शिपयार्ड थे। जहां तक ​​व्यापक बाजार का संबंध है, बीएसई में कुल 3,589 कारोबार वाले काउंटरों में से 1,814 सकारात्मक बंद हुए जबकि 1,628 नकारात्मक थे। 166 काउंटरों ने अपना सर्वकालिक या वार्षिक शिखर दर्ज किया। जबकि 35 काउंटरों ने अपने 52-सप्ताह के निचले स्तर को छुआ। 147 काउंटर अपने पिछले बंद भाव पर स्थिर दिखे।

Check Also

Home-Lone-Hike

Home Loan EMI Calculator : कर्जदारों को RBI का बड़ा झटका, जानिए कितनी बढ़ेगी आपकी होम EMI!

Home Loan EMI Calculator: इस साल त्योहार के दिनों में देश के आम लोगों को महंगाई …