भारत जोड़ो के पोस्टर पर छपी सावरकर की तस्वीर, कांग्रेस ने कहा प्रिंटिंग की गलती

content_image_2216a585-4903-400b-b920-fce3bb0ea913

कांग्रेस का ‘भारत में शामिल हों’ का सफर जारी है। इस बीच, जैसे ही यात्रा केरल के एर्नाकुलम जिले में पहुंची, एक अप्रत्याशित त्रुटि का सामना करना पड़ा। यात्रा के एक पोस्टर में अन्य स्वतंत्रता सेनानियों के अनुरूप विनायक दामोदर सावरकर की तस्वीर शामिल थी। इस मामले में कांग्रेस ने साफ किया है कि यह प्रिंटिंग की गलती थी।

 

हालांकि, कांग्रेस ने कभी भी सावरकर को स्वतंत्रता सेनानी नहीं माना। कांग्रेस कहती रही है कि उन्होंने अंग्रेजों से लड़ने के बजाय उनसे सिर्फ माफी मांगी है। केरल के निर्दलीय विधायक पी.वी. अनवर को एलडीएफ का समर्थन प्राप्त है। उन्होंने फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट किया और कहा कि कांग्रेस की ‘भारत जोड़ी’ यात्रा के हिस्से के रूप में चेंगमनाड में लगाए गए पोस्टर में सावरकर की तस्वीर है।

 

 

सावरकरी के स्थान पर बापू की तस्वीर लगाई गई

उन्होंने आगे लिखा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फिर सावरकर की तस्वीर के ऊपर महात्मा गांधी की तस्वीर लगा दी। विधायक ने कहा कि जब ऐसी खबरें आईं कि अलुवा में ‘भारत में शामिल हों’ यात्रा पोस्टर पर सावरकर की तस्वीर थी, तो मुस्लिम लीग ने कहा कि पोस्टर कर्नाटक का है। भाजपा ने स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान वहां एक पोस्टर लगाया था। हालांकि यह पोस्टर कर्नाटक का नहीं केरल का है। कांग्रेस ने सावरकर की तस्वीर पर महात्मा गांधी की तस्वीर को ढककर अपनी गलती सुधारी।

 


बीजेपी ने राहुल गांधी के बारे में क्या कहा?

कांग्रेस के पोस्टर पर सावरकर की तस्वीर देखकर भाजपा के आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने ट्वीट किया, ‘वीर सावरकर की तस्वीर एर्नाकुलम में कांग्रेस की भारत जोड़ी यात्रा को सुशोभित करती है। हालांकि, राहुल गांधी के लिए एक अच्छी भावना है। शाहजाद पूनावाला ने कहा कि राहुल जी, ‘आप इतिहास की कितनी भी कोशिश कर लें, सच्चाई हमेशा सामने आती है। सावरकर एक नायक थे! जो छुपाता है वह ‘कायर’ है। 

यात्रा 150 दिनों तक चलेगी

बताया जा रहा है कि कांग्रेस पूरे भारत में 3570 किलोमीटर का सफर तय करेगी। यह यात्रा 150 दिनों तक चलेगी। यह यात्रा 7 सितंबर से शुरू हुई थी। इसे तमिलनाडु के कन्याकुमारी से हरी झंडी दी गई। कांग्रेस का कहना है कि यह यात्रा जम्मू-कश्मीर तक जाएगी। ‘भारत जोड़ी’ यात्रा 10 सितंबर की शाम केरल में दाखिल हुई। फिर यह कर्नाटक पहुंचेगा। फिर यह 450 किमी की दूरी तय करेगी। 

Check Also

Rajpath-2022-09-30T170929.403-1

शाहजहाँ ने बनवाया था ताजमहल, सबूत नहीं… सुप्रीम कोर्ट ने मांगी तथ्यान्वेषी टीम

ताजमहल का असली इतिहास जानने की मांग वाली एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई है …