4 साल से बिस्तर पर पड़ा था लकवे का मरीज, कोरोना वैक्सीन लगते ही उठकर चल दिया

नई दिल्ली: कोरोना (Covid-19) की तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए देशभर में युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन  (Vaccination) किया जा रहा है. ऐसे में कोरोना वैक्सीन से जुड़ा हुआ एक अजीबोगरीब मामला झारखंड (Jharkhand) से सामने आया है, जहां लकवा (Paralysis) के एक मरीज को कोरोना वैक्सीन लगाई गई. दूसरे ही दिन वो उठकर चलने लगा. ये देखकर सब हैरान रह गए कि 4 साल से बिस्तर पर पड़ा लकवे का मरीज अचानक कैसे ठीक हो गया. आपको बता दें कि पहले भी कोरोना वैक्सीन से लकवे के मरीजों के ठीक होने की खबर सामने आई हैं.

4 साल से पड़े थे बिस्तर पर

जानकारी के अनुसार, ये मामला झारखंड के बोकारो के सलगाडीह गांव का है. इस गांव के 55 साल के दुलारचंद मुंडा पिछले चार साल से बिस्तर से भी नहीं उठ पा रहे थे. लेकिन अब दावा किया जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन की एक डोज से ही वो बिल्कुल ठीक हो गए. रिपोर्ट्स के मुताबिक उनको कोरोना की कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज दी गई थी.

 

वैक्सीन लगने से खुश है शख्स

दुलारचंद ने बताया कि  ‘इस वैक्सीन को लगाकर मैं बहुत ही खुश हूं. 4 जनवरी को वैक्सीन लेने के बाद से मेरे पैरों में गति आ गई है.’ उनके बारे में जानकारी है कि एक सड़क हादसे के बाद से वो ना तो चल पाते थे और ना ही बोल ही पाते थे. इस चमत्कारी घटना को देखने के बाद बोकारो के डॉक्टर भी उसकी मेडिकल हिस्ट्री देखकर कह रहे हैं कि वैज्ञानिकों को इसपर रिसर्च करना होगा.

डॉक्टर्स को भी है काफी हैरानी

बोकारो के सिविल सर्जन ने इस मसले पर एक तीन सदस्यीय मेडिकल टीम भी बनाई है, जो ‘स्वस्थ होने की इस चमत्कारी’ घटना की पड़ताल करेगी. सिविल सर्जन डॉक्टर जितेंद्र कुमार ने मुंडा के साथ हुए चमत्कार के बारे में कहा है कि ‘यह देखकर चकित हूं….वैज्ञानिकों को पता लगाना होगा. अगर वो कुछ दिनों की बीमारी से ठीक हुआ होता तो बात समझ में आ सकती थी, लेकिन 4 साल पुरानी बीमारी वैक्सीन लगने के बाद अचानक ठीक हो जाए यह अविश्वसनीय है.’

 

पहले भी सामने आ चुका है ऐसा मामला

आपको बता दें कि पिछले साल जुलाई महीने में भी इस तरह का एक मामला सामने आया था. जब छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले के एक व्यक्ति ने दावा किया था कि कोरोना वैक्सीन लगवाने से उसका लकवा ठीक हो गया. उस शख्स के दाएं हाथ में 3 साल से लकवा था. हालांकि इस मामले पर स्वास्थ्य विभाग ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी.

Check Also

झारखंड के डॉ गिरधारी राम गौंझू को मरणोपरांत पद्मश्री सम्मान

रांची, 26 जनवरी (हि.स.)। झारखंड के प्रख्यात शिक्षाविद, साहित्यकार एवं संस्कृतिकर्मी डॉ गिरिधारी राम गौंझू …