धरती पर चींटियों की संख्या 200 लाख करोड़ आंकी गई

content_image_25c5a758-45ab-4666-8a71-22f28c9d49a9

नई दिल्ली: आप जानते हैं कि धरती पर इंसानों की आबादी आठ अरब से ज्यादा है, लेकिन क्या आप चींटियों की आबादी जानते हैं? चींटियों की आबादी 200 लाख करोड़ है। अब किसी को भी आश्चर्य हो सकता है कि चींटियों की संख्या की गणना कैसे करें। 

ये 200 करोड़ चींटियां मिलकर 1.20 करोड़ टन शुष्क कार्बन का उत्पादन करती हैं। पृथ्वी पर हर पक्षी और स्तनपायी इतना कार्बन पैदा नहीं करते हैं। पृथ्वी पर उपलब्ध शुष्क कार्बन का भार मानव भार का पाँचवाँ भाग है। 

तो अब अगर आप मानते हैं कि धरती इंसानों द्वारा चलाई जाती है तो भूल जाइए। वर्षों पहले प्रसिद्ध जीवविज्ञानी एडवर्ड ओ’विल्सन ने चींटियों के बारे में कहा था कि छोटे जीव पूरी दुनिया को चलाते हैं। अब उनकी बात सच लगती है। चींटियाँ प्रकृति के पारिस्थितिकी तंत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यह मिट्टी में वायु के स्तर को बनाए रखता है। दूसरों को एक जगह से दूसरी जगह ले जाता है। कार्बनिक पदार्थों को तोड़ता है। जीवित चीजों के लिए रहने योग्य स्थान बनाएं। इसके अलावा यह फूड चेन का भी अहम हिस्सा है। 

अनुक्रमित कार्बन की मात्रा और पृथ्वी पर जीवों की आबादी द्वारा अनुक्रमित कार्बन की मात्रा की जाँच से पता चलता है कि पृथ्वी की जलवायु कितनी बदल रही है। पृथ्वी पर चींटियों की 15,700 प्रजातियां और उप-प्रजातियां मौजूद हैं। अभी भी कई प्रजातियां हैं जिनका नाम नहीं रखा गया है। यह सामाजिक संरचना, सद्भाव, काम के लयबद्ध निष्पादन और एक-दूसरे की देखभाल करने सहित कई चीजें सिखाता है। यह दुनिया भर में पारिस्थितिक तंत्र के निर्माण और संतुलन में मदद करता है। 

चींटियों की सही संख्या का पता लगाने के लिए वैज्ञानिकों ने स्पेनिश, फ्रेंच, जर्मन, रूसी, मंदारिन और पुर्तगाली भाषाओं में लिखे दस्तावेजों का अध्ययन किया। वैज्ञानिकों ने चींटी आबादी पर 498 अध्ययनों का विश्लेषण किया। यह पहले की अनुमानित जनसंख्या का 20 गुना से अधिक है, जो 498, या लगभग 500 प्रजातियों का अध्ययन करने के बाद अध्ययन में बताया गया था। इस अध्ययन में दुनिया के आधा दर्जन विश्वविद्यालयों और वैज्ञानिक संस्थानों के वैज्ञानिक शामिल हुए। इसका कारण यह था कि अगर पृथ्वी पर मानव आबादी को सुरक्षित रखना है तो चींटियों की आबादी को जानना जरूरी है। 

Check Also

Rajpath-2022-09-30T170929.403-1

शाहजहाँ ने बनवाया था ताजमहल, सबूत नहीं… सुप्रीम कोर्ट ने मांगी तथ्यान्वेषी टीम

ताजमहल का असली इतिहास जानने की मांग वाली एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई है …