Home / देश / जिला प्रशासन ने वितरण के लिए 10 हजार ड्राईफूड पैकेट करवायें तैयार

जिला प्रशासन ने वितरण के लिए 10 हजार ड्राईफूड पैकेट करवायें तैयार

 

जयपुर :  कोरोना संक्रमण को ब्रेक करने के लिए 21 दिन तक लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों को परेशानी नहीं हो, इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से 10 हजार ड्राई फूड पैकेट तैयार करवाए गए हैं। ग्राम सेवक से लेकर पटवारी किट तैयार करने में जुटे हुए हैं, जिसमें आटा, चावल, दाल खाद्य तेल, साबुन, हल्दी, मिर्ची, नमक दिया जा रहा है. जरूरतमंदों की सूची पटवारी, ग्राम सेवकों के माध्यम से तैयार करवाई जा रही है. यह जरूरतमंद वह लोग हैं जो कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम का लाभ नहीं लेते हैं लेकिन रोजाना दिहाड़ी मजदूरी कर अपना पेट पालते हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जिला कलेक्टर को सख्त आदेश है कि कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए।

लॉकडाउन में किसी में जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है राजस्थान में कोरोना और लॉकडाउन के दौरान कमजोर तबके, निराश्रित जरूरतमंद व्यक्तियों को निशुल्क ड्राई राशन सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है. कमजोर तबके, निराश्रित जरूरतमंद व्यक्तियों को 5 किग्रा आटा, 1/2 लीटर खाद्य तेल, 1/2 किग्रा नमक, 1 किग्रा दाल ओर 1 किग्रा चावल, हल्दी, मिर्ची, साबुन की खाद्य सामग्री (ड्राई राशन) नि:शुल्क देने की तैयारी कर ली गई है. यह सामग्री 10 दिन के लिए है. यदि कोई लाभार्थी ड्राई राशन सामग्री में से 5 किग्रा आटा नहीं लेना चाहता है तो उसे 5 किग्रा चावल उपलब्ध कराया जाएगा. ड्राई राशन सामग्री का वितरण तहसील कार्यालय, नगरीय निकाय कार्यालय या संबंधित जिला कलेक्टर जहां उपयुक्त जगह समझे, वहां पर करवाया जाएगा.

इसके लिए अलग-अलग टीमें गठित कर दी गई हैं. जिले के पुलिस थाने राशन वितरण केंद्र के रूप में भी कार्य करेंगे। कलेक्टर की ओर से पटवारी और ग्राम सेवक के स्तर पर भी ड्राई राशन रखने की व्यवस्था की जाएगी ताकि किसी जरूरतमंद को यहां से भी राशन दिया जा सके. लाभार्थी ड्राई राशन सामग्री प्राप्त करने के लिए अपना कैरी बैग, बोतल और बर्तन साथ ला सकेंगे ड्राई राशन सामग्री का वितरण का इंद्राज अधिकारी द्वारा रजिस्टर में संधारित किया जाएगा, जिसमें लाभार्थी का नाम, पता और मोबाइल नंबर अंकित किया जाएगा जरूरतमंद लोगों को वितरण होने वाली खाद्य सामग्री को दान दाताओं के माध्यम से प्राप्त किया जा सकेगा, जिसके लिए दानदाता कलेक्टर, डीएसओ, उपखंड अधिकारी, तहसीलदार, निकायों से कार्यालय में संपर्क कर खाद्य सामग्री दान दे सकते है।

Loading...

Check Also

15 दिनों से घर नहीं लौटी नर्स, इंतजार में रो-रोकर बेटी का हुआ बुरा हाल, वीडियो वायरल

कर्नाटक में वायरल एक वीडियो ने सभी को भाव विभोर कर दिया है जिसमें अपनी ...