अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई के भाई महमूद करजई को रविवार को तालिबान ने पकड़ लिया था। तालिबान के एक प्रवक्ता के अनुसार, देश के पूर्व शहरी विकास और भूमि मंत्री को कानूनी कार्यवाही के कारण देश छोड़ने से रोक दिया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, महमूद करजई को फ्लाइट में चढ़ने से कुछ देर पहले ही पकड़ लिया गया था। गौरतलब है कि महमूद अफगानिस्तान के बड़े कारोबारियों में से एक हैं। खबरों के मुताबिक, तालिबान की खुफिया सेवा के अधिकारियों ने महमूद करजई को काबुल हवाईअड्डे से पकड़ लिया था। वह दुबई जाने के लिए एयरिया की फ्लाइट में सवार होने ही वाला था कि अधिकारियों ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इस्लामिक अमीरात के एक उप प्रवक्ता ने भी महमूद करजई की गिरफ्तारी की पुष्टि की और कहा कि वह प्रतिबंध के बावजूद देश छोड़ने की प्रक्रिया में हैं।

हामिद करजई की आलोचना से नाराज तालिबान

खबरों के मुताबिक महमूद करजई की गिरफ्तारी के पीछे का मकसद उनके भाई हामिद करजई की राजनीतिक टिप्पणी हो सकता है। गौरतलब है कि तालिबान नाराज हैं और करजई की टिप्पणियों से आहत महसूस कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि हामिद करजई और अब्दुल्ला अब्दुल्ला अफगानिस्तान के दो प्रमुख नेता हैं जो देश में तालिबान के कब्जे के बावजूद देश में बचे हैं।

हामिद ने उठाई महिलाओं के हक की आवाज

दरअसल, पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई महिलाओं के अधिकारों पर अंकुश लगाने के लिए तालिबान सरकार की आलोचना करते रहते हैं। साथ ही वह तालिबान के सामने समावेशी सरकार बनाने की भी मांग कर रहे हैं। देश में बढ़ती हिंसा के बीच उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब देश में खूनखराबा बंद होना चाहिए.