निजी क्षेत्र में काम करने वालों के लिए सबसे बड़ी खबर; सैलरी पर पड़ेगा बड़ा असर

नया वेतन संहिता: अगले महीने की पहली तारीख से यानि 1 जुलाई से केंद्र सरकार की ओर से एक बड़ा बदलाव सभी के जीवन को प्रभावित करेगा. निजी क्षेत्र में काम करने वालों के लिए बड़ी खबर यह है कि नई कार प्रणाली सरकार द्वारा लागू की जाएगी।

जैसे ही नया वेज कोड लागू होगा, इसका सीधा असर आपको मिलने वाली सैलरी यानी ऑन हैंड सैलरी पर पड़ेगा। न्यू वेज कोड 2019 जुलाई महीने के पहले दिन से लागू हो जाएगा। 

उदाहरण के लिए, किसी भी कर्मचारी का सीटीसी मूल वेतन, एचआरए, सेवानिवृत्ति लाभ (पीएफ, ग्रेच्युटी और अन्य) के आंकड़े बदल देगा। 

 

वर्तमान में सीटीसी का 50 प्रतिशत मूल वेतन का आंकड़ा 
एक कर्मचारी के वेतन में मूल वेतन का 30 से 40 प्रतिशत है। इसके अलावा स्पेशलाइजेशन अलाउंस, एचआरए, पीएफ के हिस्से हैं। उसी आधार पर आपकी सैलरी से पीएफ की रकम काट ली जाती है। 

नई योजना के मुताबिक अब मूल वेतन सीटीसी का 50 फीसदी होगा। इसका सीधा असर पीएफ और ग्रेच्युटी पर पड़ेगा। 

 

आसान भाषा में समझें उदाहरण के 
तौर पर मान लीजिए आपका सीटीसी 50,000 रुपये है तो आपकी मौजूदा बेसिक सैलरी 15,000 रुपये है। तदनुसार, आपका पीएफ योगदान प्रति माह 1800 रुपये (मूल वेतन का 12%) होगा। 

नए नियमों के अनुसार, 50,000 रुपये के सीटीसी पर आपका मूल वेतन 50 प्रतिशत नियम के अनुसार 15,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दिया जाएगा। 12% की दर से पीएफ अंशदान 3000 रुपये प्रति माह होगा। यानी अब सैलरी में आपको 1200 रुपये कम मिलेंगे. 

सेवानिवृत्ति के बाद उच्च वेतन 
मूल वेतन में वृद्धि का सीधा असर आपकी पेंशन यानी पीएफ और ग्रेच्युटी पर पड़ेगा। हालांकि वेतन कम होगा, लेकिन सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाली राशि ज्यादा होगी। 

Check Also

Packers and Movers Mumbai for the high quality packing and moving services 

Often there is a need for high-end transportation with the proper handling of the goods.The …