अनाज वितरण टेंडर घोटाले में फंसे राज्य के पूर्व मंत्री भारत भूषण आशु की जमानत याचिका को दूसरी पीठ के पास भेज दिया गया

चंडीगढ़ : अनाज परिवहन से जुड़े टेंडर घोटाले में फंसे राज्य के पूर्व मंत्री भारत भूषण आशु को 22 सितंबर को दर्ज एक अन्य प्राथमिकी के मामले में राहत नहीं मिली है. आशु ने प्राथमिकी रद्द करने की मांग की। बुधवार को हाईकोर्ट के जस्टिस राजमोहन सिंह ने मंत्री रहे आशु की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया और दूसरी बेंच को रेफर करने का आदेश दिया.

गौरतलब है कि इससे पहले हाई कोर्ट ने 16 अगस्त को लुधियाना में विजिलेंस की ओर से दर्ज प्राथमिकी में आशु के खिलाफ जमानत देने से इनकार कर दिया था. इसके बाद 22 सितंबर को विजिलेंस ने लुधियाना में आशु के खिलाफ एक और प्राथमिकी दर्ज की थी, आशु ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर इसे रद्द करने की मांग की थी। याचिका में कहा गया था कि इस मामले में उनके खिलाफ पहले ही 16 अगस्त को प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है तो दूसरी प्राथमिकी दर्ज करना कानूनी प्रक्रिया के खिलाफ है.

Check Also

आंध्र प्रदेश में पति ने की पत्नी की हत्या, एक साल बाद ड्रम में मिली लाश

विशाखापत्तनम: आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम के मदुरवाड़ा में एक हत्याकांड का खुलासा हुआ है. एक साल …