10 दिन तक भूख प्यास से तड़पती रही 90 साल की मां, कमरे में बंद कर घूमने निकल गया था बेटा

अलीगढ़. उत्तर प्रदेश में दिल को झकझोर देने वाला एक ऐसा वाक्या सामने आया है। जिसको सुनकर आप भी शॉक्ड हो जाएंगे। जहां एक कलयुगी बेटा अपनी 90 वर्षीय बुजुर्ग मां के लिए जानवर बन गया और उसको एक कमरे में बंद करके चला गया।

10 दिन से बिना खाए-पिए पड़ी थी महिला
दरअसल, हैरान कर देने वाली यह घटना अलीगढ़ शहर की बताई जा रही है। जहां चलने-फिरने में असमर्थ बूढ़ी महिला असगरी अपने बेटे जलालुद्दीन के साथ रह रही थीं। लेकिन उसका बेटा उसको बंद करके अपनी पत्नी के साथ कहीं घूमने चला गया। आलम यह था कि महिला पिछले 10 दिन से चार दीवारी के अंदर कुछ खाए-पिए बिना ही पड़ी थी और बाहर से ताला पड़ा हुआ था।

महिला की बात सुनते ही लोगों की आंखों से छलक पड़े आंसू
बता दें कि इस बात का खुलासा 10 दिन बाद तब हुआ, जब बूढ़ी मां की बेटी उससे मिलने के लिए घर पहुंची थी। पहले तो जब उसने अपने घर पर ताला देखा तो वह जाने लगी, लेकिन अंदर से उसको किसी की सिसकियों की आवाज सुनाई दी तो उसने पड़ोसियों से अपनी मां के बारे में पूछा। लोगों ने कहा-जलाल को हम लोगों ने अपनी पत्नी के साथ कहीं जाते हुए देखा था, लेकिन असगरी बहन नहीं दिखाई दीं। इतना सुनते ही उसको कुछ शक हुआ और उलने ताला तोड़कर दरवाजा खोला तो वह हैरान थी। क्योंकि उसकी मां एक कोने में बैठी रो रही थी। जैसी उसने अपने बेटी को देखा तो वह उससे आकर लिपट गई और रोने लगी। यह सीन देखते ही वहां मौजूद लोगों की आंखों में आंसू आ गए।

भूख मिटाने के लिए खा रही थी मिर्च
महिला ने अपने बेटे की करतूत बेटी को बताई तो वह हैरान थी। उसने कहा मैंने कई दिनों से कुछ भी नहीं खाया है। जब मुझको भूख लगी तो मैंने किचिन में रखा मिर्च का डब्बा खोला उसको ही खा रही थी। यहां तक की मैंने पानी भी नहीं पीया। पड़ोसियों ने महिला की बात सुनते ही सबसे पहले उसको पेट भरकर खाना खिलया। फिर बेटी ने अस्पताल में भर्ती कराया।

Check Also

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष और महासचिव ने दर्ज कराया बयान; बोले- कांग्रेस सरकार ने राजनीतिक वजहों से फंसाया था

लखनऊ. बीते 28 सालों से लंबित बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में मंगलवार को श्रीराम जन्मभूमि …