मुसलमान से बैर नहीं, आतंकी की खैर नहीं: गृह मंत्री

narootam 00_554

जबलपुर/भोपाल, 23 सितंबर (हि.स.)। मप्र के गृह मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि हमारी संस्कृति वसुधैव कुटुंबकम के सिद्धांत को प्रतिपादित करती है। सरसंघचालक डा. मोहन भागवत का मस्जिद में जाना इस बात का द्योतक है कि हम किसी धर्म या मजहब के खिलाफ नहीं हैं। हमारी सोच शुरू से ही स्पष्ट है, ‘मुसलमान से बैर नहीं है और आतंकी की खैर नहीं है।

डा. मिश्रा शुक्रवार को जबलपुर में सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हम किसी धर्म और मजहब के खिलाफ नहीं हैं। सरसंघचालक डा. भागवत का मस्जिद में जाना इसी बात का द्योतक है, हम रहीम और रसखान के उपासक रहे हैं। हमारी संस्कृति शुरू से ही वसुधैव कुटुंबकम की रही है। उन्होंने टेरर फंडिंग के मामले में एनआईए के छापे को लेकर कहा कि एटीएस और एनआईए ने जॉइंट ऑपरेशन चलाया है। कल कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपितों को अदालत में पेश कर आज रिमांड पर लिया जाएगा।

कांग्रेस को बताया डूबता जहाज

इस दौरान गृह मंत्री डा. मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए राहुल गांधी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि विचित्र दुविधाओं में फंसी कांग्रेस चार साल में अध्यक्ष नहीं चुन पाई। कार्यकारी अध्यक्ष से काम चला रहे हैं। जिसके नाम का प्रस्ताव पास है, वह अध्यक्ष बनना नहीं चाहते और जो अध्यक्ष बनना चाहते हैं, उसे बनाने को कांग्रेस तैयार नहीं है। कांग्रेस डूबता जहाज है, इसका डूबना तय है।

उन्होंने कहा कि देश मे कांग्रेस के नेता हर राज्य में पार्टी छोड़ कर जा रहे हैं। इस दिल के टुकड़े हजार हुए, एक इधर गिरा, एक उधर गिरा। मप्र की सीमा में आए तो राहुल गांधी ने 10 दिन के अंदर दो लाख का कर्जा माफ किया था। किसी एक किसान को साथ लेकर चलें, जिसका कर्ज 10 दिन में माफ किया हो। उस एक नौजवान को भी लेकर चलें, जिसे 4 हजार रुपये मिले हैं और ऐसा नहीं करते हैं तो झूठ बोलने का पाप जो कांग्रेस ने किया है, लिखित में माफ़ी मांगने का काम करें। मध्य प्रदेश में राहुल गांधी आएं तो बताएं कि अभी तक उन्हें भारत कहां टूटा हुआ दिखा, जिसे वो जोड़ आए।

Check Also

d2268d9d609632d5a2138e4604c8509a1662949423717248_original

वेल डन इंडिया! कोरोना के दौरान गरीब देशों की मदद का हाथ, विश्व बैंक ने की तारीफ

भारत पर विश्व बैंक covid:  भारत को कोरोना महामारी में उसके काम के कारण विश्व स्तर …