भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सूर्य नमस्कार से चिंता को दूर करने और मन को शांत रखने में मदद मिलती है। सूर्य नमस्कार मात्र एक शारीरिक व्यायाम प्रक्रिया नहीं है बल्कि इसके स्वास्थ्य और आध्यात्मिक महत्व भी हैं। मेरा युवाओं से आग्रह है कि इसे दैनिक जीवनचर्या का एक अभिन्न अंग बनाएं।

स्वामी विवेकानंद जयंती पर प्रदेश भर में सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम स्थगित करने के बाद युवाओं को दिए संदेश में सीएम चौहान ने कहा कि युवा जो ठान लें वह कर सकते हैं। हम जो करते हैं, उसका माध्यम शरीर है और स्वस्थ रहकर की कुछ भी किया जा सकता है। इसलिए शरीर का स्वस्थ रहना जरूरी है। स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन निवास करता है। इसके लिए रोज योग करना जरूरी है। सूर्य नमस्कार से अंग-प्रत्यंग का व्यायाम हो जाता है। इसलिए शरीर को निरोग रखने के लिए रोज योग और प्राणायाम करें। सीएम चौहान ने कहा कि वे खुद भी रोज योग और प्राणायाम करते हैं। इसके बाद काम करने की क्षमता कई गुना बढ़ जाती है। गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रदेश भर में आज होने वाला सूर्य नमस्कार कार्यक्रम कल देर रात सीएम चौहान ने स्थगित कर दिया था।