चंडीगढ़ मेयर चुनाव विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी, हम लोकतंत्र की हत्या नहीं होने देंगे

नई दिल्ली: चंडीगढ़ मेयर चुनाव विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी की है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह लोकतंत्र की हत्या नहीं होने देंगे. सुप्रीम कोर्ट ने रजिस्ट्रार जनरल को सभी रिकॉर्ड सुरक्षित करने का आदेश दिया है. कोर्ट इस मामले पर 12 फरवरी को सुनवाई करेगा. चंडीगढ़ मेयर चुनाव में पीठासीन अधिकारी की हरकत पर चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि यह लोकतंत्र का मजाक है… जो हुआ उससे हम हैरान हैं। हम इस तरह लोकतंत्र की हत्या नहीं होने देंगे. 

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को चंडीगढ़ मेयर चुनाव के लिए पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल से मतपत्र, वीडियोग्राफी और अन्य सामग्री सहित चुनाव प्रक्रिया का पूरा रिकॉर्ड मांगा। सुप्रीम कोर्ट ने 7 फरवरी को चंडीगढ़ सिविक बॉडी की पहली बैठक को अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने का भी आदेश दिया है।

सुप्रीम कोर्ट पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली आप पार्षद कुलदीप सिंह की याचिका पर सुनवाई कर रहा था। हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ में नए मेयर चुनाव की मांग करने वाली पार्टी को कोई अंतरिम राहत देने से इनकार कर दिया था। दरअसल, 20 पार्षद होने के बावजूद आप-कांग्रेस गठबंधन चुनाव हार गया।