एनसीसी की पढ़ाई कर सकेंगे हाईस्कूल व इंटर के छात्र

मीरजापुर :  माध्यमिक शिक्षा परिषद के छात्र-छात्राएं अब हाईस्कूल व इंटरमीडिएट में राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) की भी पढ़ाई कर सकेंगे। एनसीसी को वैकल्पिक विषय में शासन ने मान्य कर दिया गया है। इस बाबत विशेष सचिव उदय भानु त्रिपाठी ने दिशा निर्देश जारी किया है। हालांकि विद्यार्थियों को स्वतंत्रता रहेगी कि वे चाहें तो एनसीसी विषय की भी पढ़ाई कर सकते हैं।
यूपी बोर्ड में एनसीसी नया विषय नहीं है, बल्कि अभी तक इसकी पढ़ाई अतिरिक्त विषय के रूप में कराई जाती रही है। बोर्ड ने नौ फरवरी 2021 को एनसीसी को वैकल्पिक विषय के रूप में मान्य करने का प्रस्ताव भेजा था। शासन ने इस पर मंथन करने के बाद आदेश जारी कर दिया है। अब छात्र-छात्राएं इसी वर्ष से एनसीसी की हाईस्कूल व इंटर में वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ाई कर सकते हैं। सीबीएसई की तर्ज पर ही यूपी बोर्ड में पहले कोर्स तैयार किया गया। एनसीसी आफिसर कर्नल चौधरी ने बताया कि एनसीसी को वैकल्पिक विषय के रूप में मान्य किया गया है। इसकी लिखित परीक्षा 2023 से कराई जाएगी। हालांकि प्रायोगिक परीक्षा सम्बंधित बटालियन स्तर पर होगी।
हाईस्कूल में छह विषय वैकल्पिक 
डीआइओएस देवकी सिंह ने बताया कि शासन ने हाईस्कूल में सिर्फ एनसीसी समेत छह विषयों को वैकल्पिक रूप में मान्य किया है। इसमें प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, आपदा प्रबंधन, सोलर सिस्टम रिपेयर, मोबाइल रिपेयर भी शामिल हैं। इंटरमीडिएट में मानविकी अर्थात कला वर्ग के छात्र-छात्राएं ही केवल एनसीसी को वैकल्पिक विषय के रूप में चुन सकते हैं। जबकि विज्ञान व कामर्स वर्ग के छात्र-छात्रओं को एनसीसी पढ़ने का मौका नहीं मिलेगा।
कमांडिंग आफिसर, 101 यूपी बीएन, एनसीसी मीरजापुर, कर्नल पुनीत शर्मा ने कहा कि एनसीसी को रक्षा क्षेत्र की तीसरी पंक्ति कहा जाता है। भविष्य बनाने में एनसीसी महत्वपूर्ण साबित होगा। हाईस्कूल व इंटरमीडिएट में एनसीसी को वैकल्पिक विषय के रूप में शामिल किया जाना सराहनीय है। इससे बच्चों में देश भक्ति की भावना बढ़ेगी। देश सेवा के लिए आगे आएंगे।

 

Check Also

इंटीग्रेटेड लर्निंग प्रोग्राम:इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के लिए मशीन लर्निंग स्किल प्रोग्राम शुरू करेगा अमेजन इंडिया, ऑनलाइन होगा स्टूडेंट्स का सिलेक्शन

  अमेजन इंडिया ने स्टूडेंट्स के लिए एप्लाइड मशीन लर्निंग स्किल (ML) सीखने के लिए …