भारतीय पर्यटकों की आमद से चार साल बाद श्रीलंका ने मालदीव को पीछे छोड़ दिया

मालदीव को भारत के साथ टकराव में मुश्किल हो रही है। जिसका फायदा अब श्रीलंका को मिल रहा है. 

भारतीय पर्यटक मालदीव छोड़कर श्रीलंका जा रहे हैं और इसी के चलते चार साल बाद श्रीलंका पर्यटकों को आकर्षित करने के मामले में मालदीव से आगे निकल गया है। श्रीलंका में आने वाले विदेशी पर्यटकों में भारतीय अब पहले स्थान पर पहुंच गए हैं, जबकि मालदीव में आने वाले विदेशी पर्यटकों में भारतीय अब पांचवें स्थान पर हैं। 

मालदीव मीडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले महीने के आंकड़े बताते हैं कि जनवरी में 1.92 लाख पर्यटक मालदीव पहुंचे, जबकि श्रीलंका टूरिज्म के आंकड़ों के मुताबिक जनवरी में श्रीलंका जाने वाले पर्यटकों की संख्या 2.08 लाख थी. श्रीलंका जाने वाले भारतीयों की संख्या में 100 फीसदी का उछाल आया है. पिछले साल जनवरी में 13759 और इस जनवरी में 34399 भारतीय पर्यटक श्रीलंका गए हैं। 

जबकि मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटकों की संख्या 15006 रही है. श्रीलंका जाने वाले विदेशियों में भारतीय पहले नंबर पर पहुंच गए हैं। जनवरी महीने में भारत से 34,399, रूस से 31,159, ब्रिटेन से 16,665, जर्मनी से 13,593, चीन से 11,511 पर्यटक श्रीलंका आए हैं। 

जबकि मालदीव में विदेशी पर्यटकों की संख्या के मामले में रूस पहले और चीन दूसरे नंबर पर है। 

मालदीव से विवाद के बाद भारतीय पर्यटक श्रीलंका की ओर देख रहे हैं, ऐसे में श्रीलंका की अर्थव्यवस्था में भी तेजी देखने को मिलेगी। भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी भारतीयों से श्रीलंका जाने की अपील की है.