त्वचा हो गई है टैन, इन घरेलू नुस्खों से पाएं खूबसूरती

लंबे समय तक हानिकारक किरणों के संपर्क में रहने से त्वचा की कोशिकाएं विशेष रूप से क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। इन कोशिकाओं के क्षतिग्रस्त होने से त्वचा संबंधी समस्याएं बढ़ती हुई देखी जाती हैं। इससे त्वचा अधिक मेलेनिन का उत्पादन करने लगती है और त्वचा काली पड़ जाती है। मेलेनिन एक प्रकार का रंगद्रव्य है जो त्वचा और बालों को गहरा भूरा और काला रंग देता है। त्वचा में मेलेनिन बढ़ने के कारण टैनिंग की समस्या हो जाती है।

टैन कैसे दूर करें

डी-टैन के लिए आप कृत्रिम विधि का प्रयोग कर सकते हैं। बाज़ार में ऐसे कई उपचार मौजूद हैं जिनसे केमिकल स्प्रे, लैंप और अन्य रसायनों का उपयोग करके टैनिंग को हटाया जा सकता है। लेकिन ये चीजें त्वचा को ज्यादा नुकसान पहुंचाती हैं। इस कारण से सलाह दी जाती है कि टैनिंग हटाने के लिए कभी भी किसी उपकरण का उपयोग न करें। आप घर पर मौजूद कुछ चीजों से टैनिंग से राहत पा सकते हैं। तो जानिए घर पर त्वचा को कैसे डिटैन करें।

शहद, दूध और हल्दी का प्रयोग करें

हल्दी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है और त्वचा के रंग को हल्का करने में मदद करती है। दूध के इस्तेमाल से त्वचा में निखार आता है और हानिकारक किरणों से होने वाली त्वचा की क्षति को ठीक करने में भी मदद मिलती है। इन दोनों को एक साथ मिलाकर लगाने से त्वचा प्राकृतिक रूप से चमकने लगती है। हल्दी और दूध का फेस पैक बनाते समय आप इसमें शहद भी मिला सकते हैं। यह त्वचा को मुलायम बनाता है।

शहद और पपीता पैक

टैनिंग हटाने के लिए यह पैक सबसे अच्छा माना जाता है। पपीते में मौजूद एंजाइम मृत कोशिकाओं को हटाकर त्वचा में चमक लाने का काम करते हैं। इसके साथ ही यह त्वचा पर पिंपल्स के दाग-धब्बों को भी कम कर सकता है। पपीते में बीटा कैरोटीन होता है जो त्वचा को नमी प्रदान करता है।

ग्रीन टी पैक

ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ फ्लेवोनोइड्स भी होते हैं जो त्वचा के रंग को निखारने का काम करते हैं। ग्रीन टी के इस्तेमाल से आप धूप से होने वाले नुकसान, झुर्रियों, झाइयों के लक्षणों को कम कर सकते हैं। आप ग्रीन टी के इस्तेमाल से भी आंखों के नीचे के काले घेरों को कम कर सकते हैं।