लाल निशान के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, पांच दिन में डूबे निवेशकों के 13 लाख करोड़

Market-2

शेयर बाजार में 4 दिन से चली आ रही गिरावट के थमने की उम्मीद भी कारोबार के अंत में खत्म हो गई है. उतार-चढ़ाव के बीच आज कारोबार की समाप्ति पर शेयर बाजार एक बार फिर लाल निशान में बंद हुआ। वहीं निफ्टी बड़ी मुश्किल से 17 हजार के स्तर को बचाने में कामयाब रहा । बाजार में जहां एक तरफ बैंक, ऑटो और वित्तीय क्षेत्र घाटे में रहे, वहीं दूसरी तरफ आईटी और एफएमसीजी में खरीदारी से घाटा सीमित रहा। बाजार में आज और भी नुकसान देखने को मिल सकता था, लेकिन रिलायंस और टीसीएस की बढ़त ने स्थिति को आसान कर दिया।

5 दिन में डूबे 13 लाख करोड़ रुपये

5 दिनों से जारी गिरावट के इस तूफान में निवेशकों को 13.1 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. आज बाजार बंद होने पर बीएसई में सूचीबद्ध सभी कंपनियों का कुल बाजार पूंजीकरण रु. 270.32 लाख करोड़। वहीं, 20 सितंबर को बाजार मूल्य 283.42 लाख करोड़ रुपये था। इसके बाद से बाजार में गिरावट देखने को मिली है.

कैसा रहा आज का कारोबार

आज निफ्टी 9 पॉइंट नीचे 17,007 पर और सेंसेक्स 38 पॉइंट नीचे 57108 पर बंद हुआ। सेंसेक्स में आज ऊपरी स्तरों से 597 अंक की गिरावट देखी गई है। कमजोर विदेशी संकेतों से शेयर बाजार दबाव में है। केंद्रीय बैंकों की सख्ती से आर्थिक विकास दर में सुस्ती का अंदेशा है। साथ ही, बैंकों ने संकेत देना जारी रखा है कि उनका कड़ा रुख जारी रहेगा। वहीं रिजर्व बैंक इसी हफ्ते नीति समीक्षा की घोषणा करने जा रहा है। बाजार आधा प्रतिशत की दर वृद्धि की भविष्यवाणी कर रहा है। हालांकि, आरबीआई की कार्रवाइयों को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है और इस वजह से निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं।

आज लाभ कहाँ है और कहाँ हानि?

सेंसेक्स में शामिल 18 शेयर आज के कारोबार में बढ़त के साथ बंद हुए। इंडसइंड बैंक 2.18 फीसदी, पावरग्रिड 1.81 फीसदी, डॉ. रेड्डीज 1.29 फीसदी ऊपर बंद हुआ। वहीं, हैवीवेट टीसीएस और रिलायंस इंडस्ट्रीज में करीब 0.8 फीसदी की तेजी आई। वहीं टाटा स्टील आज 2.25 फीसदी नीचे है। टाइटन, एसबीआई, कोटकबैंक, टेक महिंद्रा आज एक फीसदी से ज्यादा गिरे। निफ्टी पर सबसे ज्यादा बढ़त आईटी सेक्टर में करीब एक फीसदी दर्ज की गई। दूसरी ओर, वित्तीय सेवा क्षेत्र में 0.8 प्रतिशत की गिरावट आई है।

Check Also

जीएम रियोडो खाद्य उपभोग के लिए सुरक्षित: सरकार

सरकार ने कहा है कि गैर-ट्रांसजेनिक प्रतिस्पर्धियों की तुलना में आनुवंशिक रूप से संशोधित (जीएम) …