सेवा और सहयोग हमारी विरासत का हिस्सा हैं- डॉ. मनसुख मांडविया

mansukh ji_146

नई दिल्ली, 22 सितंबर (हि.स.)। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने कहा कि सेवा और सहयोग हमारी विरासत का हिस्सा हैं और वे हमारे संस्कार का एक अभिन्न अंग हैं। ये भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी के आदर्श वाक्य को भी रेखांकित और परिभाषित करते हैं जो जरूरत और आपात स्थिति में मानवता की सेवा और सहायता के प्रति अपने काम के लिए जाना जाता है। वे इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी (आईआरसीएस) के राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के लीडरशिप समिट का उद्घाटन कर रहे थे।

इस दो दिवसीय चिंतन शिविर के आयोजन का उद्देश्य आईआरसीएस के कामकाज में सुधार के तरीकों और साधनों पर गहन विचार-विमर्श करना है। बैठक में राज्य रेड क्रॉस के अध्यक्षों, उपाध्यक्षों, सचिवों और आईआरसीएस के अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया।

इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि हम हमेशा अन्य देशों के स्वास्थ्य सेवा मॉडल देखकर रोमांचित होते रहे हैं, लेकिन कोरोना ने हमारी व्यवस्था की ताकत दर्शायी और उन्नत देशों की इस संबंध में कमजोरियों को भी उजागर किया। भारत ने न सिर्फ कोरोना का सफल क्षेत्रीय मॉडल के साथ प्रबंधन किया, बल्कि वैक्सीन मैत्री के तहत दवाओं और टीकों की आपूर्ति के रूप में कई देशों को अंतरराष्ट्रीय सहायता भी प्रदान की।

Check Also

27_09_2022-dead_body.jfif

बठिंडा समाचार: राजस्थान के एक व्यापारी ने बठिंडा में जहरीली दवा निगल कर की आत्महत्या

बठिंडा : राजस्थान के स्थानीय रेलवे रोड स्थित एक होटल में जहरीली दवा निगल कर आत्महत्या …