एस्ट्रो: उम्र बीत जाने के बाद भी नहीं हो पा रही शादी! ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह उपाय गुरुवार के दिन करें

Astro Tips For Wedding: अच्छी नौकरी, घर और आर्थिक स्थिति होने के बावजूद भी कई लोगों की शादी नहीं हो पाती है। कई बार आपको अच्छा पार्टनर नहीं मिलता है। साथ ही उम्र बीतने के साथ बेचैनी भी आ जाती है। कई बार अरेंज मैरिज टूट जाती है। हिंदू धर्म के अनुसार जब कुंडली में गुरु की स्थिति कमजोर होती है तो विवाह में मुश्किलें आती हैं। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र में कुछ उपाय बताए गए हैं। ज्योतिष ग्रहों और तारों का अध्ययन करके भविष्यवाणी करता है। गुरुवार के दिन ज्योतिषीय उपाय करने से बाधा दूर होती है। 

गुरुवार का व्रत – यदि विवाह में बाधा आ रही हो तो गुरुवार को सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें. उसके बाद देवगुरु बृहस्पति का व्रत करना चाहिए। साथ ही भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी के फोटो की एक साथ पूजा करें। इस व्रत को लगातार 9 से 11 गुरुवार तक करें। इससे विवाह में आ रही परेशानी दूर होती है। 

नहाने के पानी में डालें हल्दी – शीघ्र विवाह के लिए यह ज्योतिषीय उपाय कारगर है। गुरुवार के दिन नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी डालकर नहाएं। इसके बाद उस जल से स्नान करना चाहिए। इससे कुंडली में कमजोर गुरु को बल मिलता है। लेकिन इस प्रयोग को करते समय साबुन का प्रयोग न करें।

 

शिव की पूजा करनी चाहिए- गुरुवार के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा करनी चाहिए। इससे विवाह में आ रही परेशानी दूर होती है। शिवलिंग का अभिषेक श्रद्धा पूर्वक करना चाहिए। मान्यता है कि शिव की पूजा करने से विवाह में आ रही रुकावटें तुरंत दूर हो जाती हैं।

 

तुलसी को जल और कच्चा दूध चढ़ाएं – गुरुवार के दिन जातक को तुलसी को जल अर्पित करना चाहिए। साथ ही कच्चा दूध चढ़ाने से विवाह में आ रही रुकावटें दूर होती हैं। साथ ही सुबह-शाम तुलसी के पास घी का दीपक जलाने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।

तुलसी की माला धारण करें – यदि विवाह के बाद भी बार-बार परेशानियां आ रही हों तो गुरुवार के दिन 108 बार विष्णु मंत्र का जाप करें। फिर तुलसी की माला गले में धारण करें। इससे एक अच्छा पार्टनर बनता है।

Check Also

Mahashivratri 2023: महाशिवरात्रि पर हो रहा है ‘महासंयोग’! इन उपायों से प्रसन्न होंगे शिव

महाशिवरात्रि 2023 : भगवान भोलेनाथ (भगवान शिव) और देवी पार्वती (देवी पार्वती) का विवाह समारोह माघ महीने में कृष्ण …