Sahara Refund:सहारा निवेशकों के पैसे पर नया अपडेट, लोगों को पैसा मिलेगा या नहीं? यह सरकार की योजना

SEBI: सहारा ग्रुप में फंसा है लोगों का करोड़ों पैसा! सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय का भी हाल ही में निधन हो गया। इसके बाद निवेशकों के मन में कई सवाल हैं कि क्या उन्हें अपना फंसा हुआ पैसा वापस मिलेगा या नहीं? इसी बीच एक नई रिपोर्ट सामने आई है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सहारा के पैसे को समेकित निधि में ट्रांसफर करने पर विचार किया जा रहा है.

समेकित निधि

इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सहारा-सेबी के रिफंड खाते से लावारिस धनराशि को समेकित निधि में स्थानांतरित करने पर विचार किया जा रहा है। साथ ही सरकार से कानूनी सलाह भी ली जा रही है. ऐसे में अगर कोई निवेशक भविष्य में फंड के खिलाफ दावा करता है तो उसे पैसा वापस किया जा सकता है।

जानकारी के मुताबिक, सहारा ग्रुप से 25 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की वसूली की गई और इसके बाद 31 मार्च तक करीब 138 करोड़ रुपये ही ट्रांसफर किए गए. बाकी पैसा सरकारी बैंक में जमा करा दिया गया. 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने सेबी के फैसले को बरकरार रखते हुए सहारा ग्रुप को निवेशकों का पैसा ब्याज सहित लौटाने का आदेश दिया था. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के पास फंड जमा करने को भी कहा.

 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर सत्यापन के बाद भी निवेशकों की पहचान नहीं हो पाती है तो ऐसे फंड को सरकार के पास जमा करा दिया जाएगा. हालांकि, अब भी कई निवेशक सामने नहीं आये हैं. ईडी से बातचीत के दौरान अधिकारी ने दावा किया कि ऐसे निवेशकों के लावारिस पैसे का इस्तेमाल सामाजिक विकास से जुड़ी योजनाओं में किया जा सकता है. आपको बता दें कि निवेशकों को उनका पैसा वापस दिलाने के लिए एक वेब पोर्टल भी लॉन्च किया गया है।

सहारा रिफंड पोर्टल पर रिफंड के लिए ऐसे करें आवेदन

यदि आप उपरोक्त चार सोसायटी में से किसी में निवेशक हैं, तो आपको केंद्र सरकार द्वारा लॉन्च किए गए https://mocrefund.crcs.gov.in पर जाना होगा।

यहां आपको पोर्टल पर पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करनी होगी।

इसमें 12 अंकों का सदस्य नंबर, आधार के आखिरी चार अंक आदि दर्ज करना जरूरी है.

फिर आपको अपना मोबाइल नंबर भी दर्ज करना होगा।

रिफंड के लिए दावा करते समय ध्यान रखें कि मोबाइल नंबर आधार नंबर से लिंक होना चाहिए.

मोबाइल नंबर दर्ज करने के बाद आपके मोबाइल पर एक ओटीपी भेजा जाएगा जिसे पोर्टल पर दर्ज करना होगा।

इसे दर्ज करने के बाद आपको एक फोटो अपलोड करना होगा।

इसके साथ ही पैन की कॉपी भी पोर्टल पर अपलोड करनी होगी.