रतनगढ़ धाम अलौकिक सौंदर्य सुख शांति का प्रतीक : महामंडलेश्वर

दतिया, 19 नवम्बर (हि.स.)। दो दिवसीय भिंड दतिया प्रवास पर आए महामंडलेश्वर राधे राधे महाराज शनिवार को सर्वप्रथम दंदरौआ धाम पहुंचे, जहां सियपिय मिलन महोत्सव में सम्मिलित हुए। इसके बाद कथा वाचक धीरेन्द्र शास्त्री बागेश्वर धाम द्वारा कथा का रसपान किया एवं महाआरती में सम्मिलित हुए। तत्पश्चात महामंडलेश्वर महराज जोरा मंदिर होते हुए मां बगलामुखी पीतांबरा पीठ पहुंचकर दर्शन किए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि रतनगढ़ धाम अलौकिक, सौंदर्य एवं सुख-शांति का प्रतीक है।

महामंडलेश्वर श्री राधे राधे महाराज ने रतनगढ़ धाम जहां कल-कल बहती मां सिधुका माई का दर्शन कर प्रकृति की गोद में विराजमान मां मांडुला देवी मंदिर पर पहुंचकर माई के दर्शन कर पूजा अर्चना कर हवन किया इस दौरान उन्होंने मंदिर को बहुत अलौकिक एवं बहुत सिद्ध पीठ होना बताया उनके साथ अखिल भारतीय संत समिति के प्रदेश महामंत्री हनुमत दास महाराज रतनगढ़ माता मंदिर के महंत पुजारी राजेश महाराज साथ रहे।

Check Also

दिल्ली नगर निगम मतगणना के शुरूआती रुझान में आप आगे चल रही

दिल्ली नगर निगम के 250 वार्डों के लिए चार दिसंबर को मतदान हुआ था और …