राजकोट : टमाटर की कीमत 80 रुपये से 100 रुपये प्रति किलो

गृहणियों का बजट फिर से बाधित हो गया है। एक बार फिर महंगाई की मार झेलने की बारी आम आदमी की है । मानसून की शुरुआत के साथ ही राजकोट में टमाटर के दाम भी दोगुने हो गए हैं। जो कीमत महज 50 रुपये से कम थी, वह अब फिर से 80 रुपये से 100 रुपये प्रति किलो हो गई है। इस मूल्य वृद्धि का कारण क्या है और यह कब घट सकता है? मैं आपको बता दूँ

मानसून शुरू होते ही टमाटर के दाम दोगुने

मानसून की शुरुआत के साथ ही टमाटर के दाम दोगुने हो गए हैं। कीमत 50 रुपये प्रति किलो के मुकाबले 100 रुपये हो गई है। जिससे गृहणियां परेशान हैं। उनका बजट बाधित हो गया है। वहीं दूसरी ओर सब्जी व्यापारियों को भी भारी नुकसान हुआ है. इन टमाटरों को लेकर दुकानदार बैठे हैं लेकिन खरीदार नजर नहीं आ रहे हैं। क्योंकि इसकी कीमत आसमान छू गई है।

टमाटर के दाम आसमान छू रहे हैं

बारिश का मौसम शुरू होते ही टमाटर ने भी अपना रंग दिखा दिया है. एक महीने पहले एक किलो टमाटर की कीमत 30 रुपये से 50 रुपये के बीच थी। इसके बजाय राजकोट और सूरत के खुदरा बाजारों में टमाटर 80 रुपये से 100 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। जबकि थोक बाजार में भाव 60 से 70 रुपये चल रहा है. राजकोट के एक सब्जी व्यापारी देवचंद रमानी कहते हैं कि कम स्थानीय उत्पादन और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतें टमाटर की कीमतों में तेजी के लिए जिम्मेदार हैं।

टमाटर की कीमतें क्यों बढ़ रही हैं?

हालांकि, इस कीमत में बढ़ोतरी के पीछे क्या कारण है और कीमत कब नीचे जा सकती है? जानना भी जरूरी है। टमाटर का उत्पादन स्थानीय स्तर पर नहीं होता है। वर्तमान में जो टमाटर आ रहे हैं वे बेंगलुरु से आ रहे हैं।वर्तमान बारिश के मौसम के कारण कर्नाटक से टमाटर कम मात्रा में आ रहे हैं। कारोबारियों का कहना है कि अगले एक से दो महीने तक यही स्थिति रहेगी। कारोबारियों का यह भी कहना है कि टमाटर से फिलहाल आमदनी कम है। अन्य सब्जियों के दाम अभी नहीं बढ़े हैं। आने वाले दिनों में बारिश के आधार पर सब्जियों की कीमतों में उतार-चढ़ाव होगा। हालांकि, गृहिणियों को कई महीनों तक टमाटर की जरूरत होती है। फिर अगर इनकी कीमत जल्द ही कम होती है तो इन्हें राहत मिलेगी।

Check Also

बकरे के लिए लाखों की बोली, लेकिन मालिक ने ‘इस’ वजह से बेचने से किया इनकार

उत्तराखंड: देशभर में 10 जुलाई को ईद मनाई जाएगी. त्योहार से पहले देश भर में बकरियां बेची …