बुधवार को भी जारी है रेल अवरोध

21dl_m_188_21092022_1

पुरुलिया, 21 सितंबर (हि.स.)। आदिवासी कुर्मी समाज को अनुसूचित जनजाति के रूप में सूचीबद्ध करने तथा अन्य कई मांगों को लेकर आदिवासी कुर्मी समाज की ओर से रेल रोको अभियान चलाया जा रहा है। मंगलवार से शुरु हुआ रेल अवरोध बुधवार सुबह को भी जारी है। इसी क्रम में खड़गपुर गांव के खेमाशुली में रेल अवरोध किया गया है। 30 घंटे के बाद भी पुरुलिया के कुस्तौर रेलवे स्टेशन पर भी अवरोध जारी है। जिसकी वजह से कई ट्रेनों को रद्द करना पड़ा है। इस अवरोध से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दक्षिण पूर्व रेलवे का आद्रा डिवीजन अवरुद्ध है। इस रेल रोको अभियान में यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

स्थानीय कुर्मी समुदाय के सदस्यों ने कहा कि मांग पूरी नहीं हुई तो रेल अवरोध जारी रहेगी। कुर्मी समुदाय के लोगों ने आज सुबह खेमाशुली इलाके में एक रैली निकली। उनका कहना है कि उनकी मांगें पूरी होने तक रेलवे और राष्ट्रीय राजमार्गों को जाम किया जायेगा। आदिवासी कुर्मी समाज के कार्यक्रम से जिले में परिवहन व्यवस्था लगभग ठप हो गई है।

विरोध के चलते कई ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं। कुछ ट्रेनों को डायवर्ट किया जा रहा है। चक्रधरपुर-टाटानगर पैसेंजर स्पेशल, टाटानगर-खड़गपुर पैसेंजर स्पेशल, खड़गपुर-झाडग्राम मेमू स्पेशल, खड़गपुर-टाटानगर मेमू स्पेशल, झाडग्राम -धनबाद एक्सप्रेस, आद्रा-बरकाकाना मेमू पैसेंजर, आसनसोल-रांची मेमू पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि कुर्मी समुदाय ने मूलत: तीन मांगें रखी है। कुर्मी जाती को अनुसूचित जनजाति के रूप में सूचीबद्ध किया जाना चाहिए, कुरमाली भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किया जाना चाहिए और सरना धर्म की आधिकारिक संहिता पेश की जानी चाहिए।

Check Also

IITian-Chaiwala-ki-Dukan

सक्सेस स्टोरी: सड़क पर स्टॉल लगाकर चाय बेच रहे आईआईटी-एनआईटी के छात्र, कमाई जानकर हैरान रह जाएंगे आप

कहा जाता है कि अगर आप सफल होना चाहते हैं तो हर किसी से अलग …